अतीत एक सपना है

अतीत एक सपना है, उसे
मधुर मधुरिमा की तरह यादों में भरो !
तुम अपने इस फूलवारी को
सींच-सींच तैयार करो !
रोना है – बीते दुखों को याद करो
हँसना है – मधुर अतीत को याद करो
प्यारे ! अपने मन को दृढ कर लो
इस अनमोल रतन से झोली भर लो
कौन है अपना कौन पराया –
अच्छा किया या बुरा किया –
सही जबाब हमें अतीत ही देगा !
थोडÞा मनन करो सब साफ होगा !
भविष्य का सुन्दर चित्र सजाने
सौभाग्य का दिव्य चेहरा संवारने
रहनुमा और दोस्त सब होगा अतीत
डÞगमगाएंगे न कदम, गर न भूलें अतीत !
शिक्षक
श्री चण्डी भैरव मावि
बाडभञ्ज्याङ-४kabita

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: