Tue. Sep 25th, 2018

अपनों ने जब कभी भी, मुहब्बत से बात की; कोई न कोई अपनी, ज़रूरत की बात की ।

गंगेश कुमार मिश्र

गंगेशकुमार मिश्र

अपनों ने जब कभी भी,

मुहब्बत से बात की;

कोई न कोई अपनी,

ज़रूरत की बात की ।

हम पे पड़ी तो अक़्सर,

थे दूर जो खड़े;

ख़ुद पे जो आ पड़ी तो,

इनायत की बात की ।

कहते थे जो हमेशा,

इक बार कर के देखो;

हमनें जो की मुहब्बत,

क़यामत की बात की ।

आँखों में आ गए जो,

हर बार की तरह;

अश्कों ने आज,

हमसे बग़ावत की बात की ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of