अलाउद्दीन स्मृति साहित्यिक समाज प्रतिष्ठान बाँके के आयोजन में स्रष्टा सम्मान, कृति विमोचन, बहुभाषिक कवि गोष्ठी

नेपालगन्ज÷(बाँके) पवन जायसवाल,२०७२ फागुन ९ गते ।
1 (2)बाँके जिला के नेपालगन्ज महेन्द्र पुस्तकालय में फागुन ८ गते शनिवार को ६६ वाँ प्रजातन्त्र दिवस के अवसर पर अलाउद्दीन स्मृति साहित्यिक समाज प्रतिष्ठान बाँके के आयोजन में स्रष्टा सम्मान, कृति विमोचन, बहुभाषिक कवि गोष्ठी किया गया है ।
कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि नेपाल प्रज्ञा प्रतिष्ठान काठमाण्डौं के प्राज्ञ सभा सदस्य हरिप्रसाद तिमिल्सिना ने पानस में दीप प्रज्वलन करके स्रष्टा सम्मान, कृति विमोचन, बहुभाषिक कवि गोष्ठी कार्यक्रम का उद्घाटन किया ।
कार्यक्रम में दाङ्ग देउखुरी के साहित्यकार शिवराज पन्थी, छविलाल कोपिला, हरिप्रसाद पोख्रेल, नेपाली तथा अवधी भाषा में कलम चलाते आ रहे साहित्यकार तथा लेखक जगतराम यादव और कपिलवस्तु जिला के साहित्यकार अली मोहम्मद को प्रमुख अतिथि हरिप्रसाद तिमिल्सेना ने खादा ओढाकर सम्मान किया था ।
उसी कार्यक्रम में प्रमुख में हरिप्रसाद तिमिल्सेना गीतकार तथा लेखिका कल्पना खरेल की दो कृति समलिङ्गी सम्वन्ध र क्षितिज पारिको शव्दहरु नामक कृति का बिमोचन भी किया था ।
2 (3)अलाउद्दीन स्मृति साहित्यिक समाज प्रतिष्ठान बा“के के अध्यक्ष असफाक ताविस संघर्ष के सभापतित्व में सम्पन्न कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार पन्नालाल गुप्त, अवधी सांस्कृतिक विकास परिषद् के अध्यक्ष सचिच्दानन्द चौबे, नेपाल रेडक्रस सोसाइटी सदरलाइन उप– शाखा के अध्यक्ष ओम प्रकाश आजाद, वरिष्ठ साहित्यकार खगेन्द्र गिरि ‘ कोपिला’, बि. बिकास प्रतिष्ठान के अध्यक्ष पंकज कुमार श्रेष्ठ, रिचा लुईटेल, अनुपमा करारा ‘ बिवस’, गीता नेपाली, उर्दू साहित्यकार नसीम कादरी महेन्द्र रोका ‘ अदृश्य’, सम्मानित स्रष्टा शिवराज पन्थी, जगतराम यादव, पुष्पराज जोशी, लगायत लोगों ने शुभकामना देते हुये अपनी अपनी रचनाओं का भी वाचन किया था । कार्यक्रममा स्वागत मन्तब्य कल्पना खरेल ने किया था और कार्यक्रम की सञ्चालन हरिप्रसाद भण्डारी किया था ।

loading...