अशोक सिघँलजी के प्रति हार्दिक श्रधान्जली

काठमांडू,२७ नोभेम्बर |

राजधानी के आज एक कार्यक्रम में श्री अशोक सिघँलजी के प्रति हार्दिक श्रधान्जली अर्पित किया गया |

ashok-singhalji-photo.png-1

 

इस अवसर पर नेपाल भारत मैत्री समाज के अध्यक्ष प्रेम लश्करी ने उनका परिचय देते हए उनके प्रति श्रधान्जली अर्पित की | उन्होंने कहा कि अशोक सिघँलजी विश्वहिन्दु परिषद के अध्यक्ष थे । उनकी पूरा जिंदगी हिंदुत्व के प्रचार में बिता । उनकी चाहना थी की नेपाल भी हिंदु राष्ट्र बने । नेपाल के अधिकांस हिन्दू सम्मेलन में उनकी सहभागिता थी । सनातन धर्मसेव समिति की ओर से शीला पंथी ने कहा कि श्री अशोक सिघँल का नेपाल में हिन्दू संघ बनाने में उनकी प्रमुख भूमिका थी । विश्वहिन्दु महासंघ के मार्गदर्शक भरत समसेर जी ने कहा कि श्रीअशोक सिघँल स्पस्ट वक्ता के रूप में जाने जायेंगे । हिन्दू के लिये मर मिटनवाले व्यक्ति थे ।

इस अवसर पर स्वामी कमल नयन आचार्य जी ने कहा क़ि मैंने उन्हें वीर धीर सपुत कह कर वुलया था और वे हमारा निमन्त्रण स्वीकार कर के अभिषेक के लिए आये थे जिसमे नेपाल से ले गए १००० शालिग्राम को सावालाख गाई के दूध से अभिषेक हरिद्वार में किया गया था । मैंने उन्हें धर्माचार्य की उपाधि से सम्मानित किया था ।  विश्वहिंदू राष्ट्रिय समिति के कार्यवाहक अध्यक्ष अर्जुन वस्तोला ने कहा कि २०४७ के संबिधान में नेपाल को हिन्दुराष्ट्र बनाने में उनकी बहुत बड़ी भूमिका थी । वे नेपाल के बारे में बहुत बड़ा चिंतक थे | इस अवसर पर खेमनाथ आचार्य, केशव अधिकारी , ओपेंद्र बहादुर, ने आपनी और से श्रधांजलि  के शब्द व्यक्त किये |
ashok-singhalji-2.png-1

Loading...