Tue. Sep 25th, 2018

इपीजी का समयावधी एक महिना बांकी, साझा प्रतिवेदन नहीं बन सका

काठमांडू, ५ मई । नेपाल–भारत प्रबुद्ध व्यक्ति समूह (इपीजी) का समयावधी अब एक महिना रह गया है । दो साल पहले गठित इपिजी को नेपाल–भारत सम्बन्ध के सभी पक्ष में विचार–विमर्श कर प्रतिवेदन तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई थी । लेकिन अभी तक साझा प्रतिवेदन नहीं बन पाया है । नयां पत्रिका में प्रकाशित समाचार अनुसार इपीजी का अन्तिम (नवें) बैठक आषाढ़ १५ और १६ गते काठमांडू में होने जा रहा है । और इपिजी का समयावधी आषाढ़ २० गते खत्म होने जा रहा है ।
नेपाल–भारत दोनों पक्ष के बीच सन् १०५० की सन्धी प्रतिस्थापन और नेपाल–भारत खुला सीमा नियमन के सम्बन्ध में साझा धारणा बनने बाद ही साझा प्रतिवेदन बन सकता है । अभी तक इस विषय में सहमती नहीं बन पाई है । लेकिन दोनों पक्ष के बीच सहमति बन चुकै है कि सन् १०५० की सन्धी को यथावत नहीं रखा जाए ।
गत चैत्र २९ और ३० गते दिल्ली में सम्पन्न ८वें बैठक में सन् १९५० की नेपाल–भारत सन्धी और सीमा नियमन के संबंध में ८ घण्टा तक विचार–विमर्श हुआ था, लेकिन बैठक बिना निष्कर्ष ही समाप्त हो गई थी ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of