इसबार निशाना भारतीय राजदूत

काठमांडू , ८ मई |

ओली सरकार ने अब एक गम्भीर और खतरनाक निर्णय करने का विचार कर रहा है | जिसे कहा जा सकता है कि विनाशकाले विपरित बुद्धि | इस बार वे भारतीय राजदूत को वापस पठाने पर विचार कररहे हैं \ इस सम्बन्ध में उन्होंने एटर्नी जेनरल को कल्ह वुलाया था जिसमे उन्हें सल्लाह दिया गया कि भियेना सम्मेलन का उलंघन का आरोप लगाकर यह कदम उठाया जा सकता है |

ranjit-ray.png22

इस पर दिल्ली से प्रकाशित होनेवाली हिंदुस्तान टाइम्स के एसोसियेट सम्पादक प्रशांत झा ने ट्विटर के मर्फत कहा है कि

ओली सरकार भारत के खिलाफ भावनाओं में पड़ कर अनावश्यक रूप से एक बड़ी गलती करने जा रही है। मुझे बताया गया है कि वे एक कठोर कदम उठाने को विचार कर रहे हैं | इसबार उनका निशाना भारतीय राजदूत हैं |
अगर यह होता है, तो मुझे डर है कि नेपाल अपनी क्षमता से परे एक कूटनैतिक टकराव में उलझने जा रही है  जिसे बाद में सुलझाना बहुत ही मुश्किल पड सकता है |
 सामाजिक समन्वय करने के वजय ओली साहब ने आंतरिक द्वंद के बीज बो दिया है जिसे हटाने में वर्षों लग सकता है |

TWEETS by

Prashant JhaVerified account

@prashantktm follows you

Associate Editor,Hindustan Times.Author, Battles of The New Republic:A Contemporary History of Nepal. Opinions are, obviously, personal.

( Oli’s govt making a big mistake with unnecessary belligerence against India. I am told they are considering a drastic step, targeting Amb.
If it goes ahead, I am afraid Nepal will end up getting embroiled in a diplomatic confrontation much beyond its capacity to manage+
This is besides social polarisation.Oli has sowed the seeds of internal conflict, which will manifest itself in diff forms in years to come )

Loading...