इस विराने से परे…दशाहरे में गाउँघर लौटने बालों की संख्या दैनिक लाख

विजेता चौधरी, काठमांडू, आश्विन १८ ।
दशाहरे की छूट्टी शुरु होते ही राजधानी से अपने अपने गाउँ घर लौटने बालों की संख्या प्रत्येक वर्ष हजारों पहुँच जाती है । इस बार भी घर लौटने वाले यात्रियों की संख्या में बढोतरी होते जा रही है ।
महानगरिय ट्राफिक प्रहरी महाशाखा के मुताविक दैनिक ८० हजार से ९० हजार नागरिक दशहारा मनाने के लिए अपने गाउघर लौटने लगे हैं । महासाखा से प्राप्त आंकडों के मुताविक कल सोमबार की सुवह से आज सुवह तक में राजधानी से ८ हजार ८ सौ १४ सवारी साधनों से ८९ हजार ६ सौ ५९ यात्री बाहर गएँ हैं ।
नवरात्री के समय में कलशथापन के दिन से ही यात्रियों के उपत्यका से बाहर जाने का क्रम बढ जाता है । वहीं बसो की संख्या भी बढादिया जाता है । पर्यटक बस, निजी लगायत अन्य बसें भी इस समय में सेवा प्रदान करती है । इस बार साझा बस ने भी सेवा प्रदान किया है । वहीं सेना ने अपने सैनिको के लिए दशाहरे में सैनिक बस संचालन किया है ।
काठमांडू से बाहर जाने बालों की तादात वैसे तो आम समय में भी ६५ हजार से अधिक ही होती है । यद्यपि दशाहारा में उक्त संख्या अपरिमित रुप से बढजाता है । बस की टिकट के लिए रातभर लाइन लग कर भी लोग अपने अपने घर जाने को मानो व्याकुल हों उठते हैं ।
लशाहरा नेपालीयों का महान पर्व है । इसे विशेष पूजा के साथ अपने परिवार के बडे बुढों से टीका लगाकर आशिर्वाद प्राप्त किया जाता है । और छोटे को टीका तथा दक्षीण वा उपहार प्रदान कर इस पर्व को उल्लास के साथ मनाया जाता है । दशाहरे को नेपाल में खानपिन के पर्व के रुप में भी मनाते हैं । वहीं नेपाल में सब से लम्बी छुटिट भी दशाहरे में ही मिलती है । संभवतः यही वजह रही होगी के काठमांडू के निरस परिवेष से निकल लोग अपने घर व अपनो के साप जाने को इस कदर व्याकुल रहेत हैं ।
यात्रियों की सुरक्षा को मध्येनजर करते हुए महाशाखा ने उपत्या के विभिन्न स्थानों में १२ सहायता कक्ष भी संचालन किया है । वहीं सुरक्षा तथा ट्राफिक निगरानी भी बढादिया गया है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: