उर्जा समझौते पर सहमति : धीरे–धीरे अच्छे आसार

tin dalश्वेता दीप्ति, काठमान्डौ श्रावण १३— धीरे–धीरे आसार अच्छे नजर आ रहे हैं । समय का तकाजा भी यही है कि, वक्त रहते इसकी अहमियत को पहचान लिया जाय । यह एक अच्छी खबर आ रही है कि मोदी भ्रमण को उपलब्धिमूलक बनाने और उर्जा विकास समझौते पर प्रमुख राजनीतिक दलों ने अपनी सहमति जताई है । नेपाल को अभी ऐसी ही विचारधारा की आवश्यकता है जो समय के महत्व को समझे और मतभेदों को भुलाकर साथ आगे बढ़े । सत्तारूढ़ काँग्रेस, एमाले और प्रमुख प्रतिपक्षी एमाओवादी के शीर्षनेताओं ने प्रधानमंत्री निवास स्थान बालुवाटार में हुए बैठक में भाग लिया और मोदी भ्रमण के समय उर्जा विकास समझौता करने पर अपनी सहमति जताई । पीटीए में सहमति जुटाने के लिए तीनों दलों के एक एक व्यक्ति को लेकर कार्यदल गठन किया गया है, जिसमें काँग्रेस की ओर से अर्थमंत्री रामशरण महत, एमाले उपाध्यक्ष भीम रावलऔर एमाओवादी नेता नारायणकाजी श्रेष्ठ हैं । एमाले के निवर्तमान अध्यक्ष झलनाथ खनाल ने कहा कि पीटीए देश की आवश्यकता है, इसलिए सभी दलों ने इसमें सहमति दिखाई है । कार्यदल समबन्धित सभी निकायों से बात चीत कर के सहमति जुटाने में प्रयासरत है । बैठक में ऊपरी कर्णाली के पीडीए, पंचेश्वर, अरुण तीसरे के विषय में भी बातचीत हुई किन्तु कोई ठोस निष्कर्ष सामने नहीं आया । भारत के साथ काठमान्डौ को जोड़ने वाली तराई की फास्ट ट्रैक सड़कें और मध्य पहाड़ी लोक मार्ग में भारतीय निवेश के लिए भी भा.प्र म.मोदी से आग्रह करने की योजना सरकार की है ।
भारतीय प्रधानमंत्री मोदी की नेपाल भ्रमण की कार्यतालिका और नेपाल को दिए जाने वाले पैकेज की तैयारी के लिए भारतीय राजदूत भारत जाने वाले हैं । इस बीच विदेशमंत्री सुषमा स्वराज्य नेपाल को दिए जानेवाले पैकेज हेतु विचार विमर्श में लगी हुई हैं । उम्मीद है कि मोदी नेपाल को एक बड़ा जलविद्युत परियोजना उपहार में देंगे, साथ ही हुलाकी मार्ग, पूर्व पश्चिम मध्य पहाड़ी लोकमार्ग जैसी बड़ी परियोजनाओं में अपेक्षित सहयोग करने की तैयारी में है । भारतीय प्रधानमंत्री के साथ जनआन्दोलन के बाद सबसे बड़ा पत्रकार समूह आने की सम्भावना है ।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz