ओली जी के इस भ्रमण से जनकपुर उत्तेजक होने की सम्भावना

मुकेश कुमार झा, जनकपुर, 15 कार्तिक ।

नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली जी को जनकपुर भ्रमण की बहुत आतुरता है। जनकपुर को ओली जी से बहुत सवाल जवाब करना है और यह बात उनको भी पता है तभी तो वह भारतीय राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के भ्रमण के मध्य जनकपुर आ रहे हैं।

janakpur-bhraman

नेपाल सरकार भी इस बात से भली भाँती परिचित है की आंदोलन के समय ओली जी द्वारा दी गई उत्तेजक वक्तव्यों को जनकपुर भुला नहीं है और उसके बाद जनकपुरवासी एवम् ओली जी की प्रत्यक्ष सामना भी नही हुवा है। ओली जी के इस भ्रमण से जनकपुर उत्तेजक होने की सम्भावना है और वह प्रायः यही करने के लिए ही जनकपुर आ रहे हैं। वैसे स्थानीय वासी ओली जी के इस चाल से पूर्णरूपेण परिचित है एवम् वर्तमान में संयमित भी है परन्तु आने के बाद अगर ओली जी कुछ ऐसी उत्तेजक वक्तव्य देते हैं जिससे स्थानीय वासी आपा खो बैठे तो भारतीय राष्ट्रपति के भ्रमण को ले कर जो उत्साह का रंग है वह भंग हो जाएगा।
जिस तरह नेपाल सरकार ने जनकपुर में कुछ समय पूर्व मोदी जी के जनकपुर भ्रमण एवम् मधेसी युवाओं द्वारा खेले जाने वाले मधेस प्रीमियर लीग पर असुरक्षा के कारण दिखाते हुए रोक लगाई थी उसी तरह राष्ट्रपति मुखर्जी के भ्रमण होने तक असुरक्षा के कारण तहत ओली जी के भ्रमण को रोकना ही अच्छा रहेगा। क्योंकि ओली जी का वास्तव में कोई भरोसा नहीं की उनके मुँह से कौन सा मुहावरा निकल जाए और जनता उत्तेजित हो उठे। नेपाल सरकार के गृह मंत्रालय को ओली जी के भ्रमण का तालिका किसी भी कीमत पर भारतीय राष्ट्रपति के भ्रमण से पहले नहीं स्वीकार करनी चाहिए। ओली जी को भी एक जिम्मेवार नेता की हैसियत से और मधेस एवम् उनके रिश्तों को ध्यान में रखते हुवे इस समय जनकपुर आने का खयाल दिल से निकाल देना चाहिए। जब मुखर्जी की भ्रमण समाप्त हो जाए तब आराम से जनकपुर वासिओं की खातिरदारी के लिए आएं उस वक्त उनको अच्छी तरह खातिरदारी होगी।

सरकार की नीति देख कर यह बिलकुल स्पष्ट नजर आ रहा है कि वो जनकपुर वासियों को भड़काना चाह रही है।ताकि वो कुछ ऐसा असंयमित कार्य करें जिसका हवाला देकर भारतीय राष्ट्रपति का जनकपुर भ्रमण रोका जा सके ।

ऐसे में जनकपुर वासियों को अपने धैर्य का परिचय देना होगा ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz