Sat. Sep 22nd, 2018

कंकालिनी नगरपालिका में स्वतन्त्र मधेस गठबन्धन के राममनोहर यादव को भावपुर्ण श्रद्धांजलि

हिमालिनी डेस्क, सप्तरी 02-09-2018 | स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन के नेता राम मनोहर यादव की आत्मा की चीर शान्ति के लिए हनुमाननगर कंकालिनी नगरपालिका स्वराज समिति भारदह, सप्तरी द्वारा आज श्रद्धाञ्जली दिया गया है। बर्दिया जिल्ला प्रहरी की हिरासत में रहे बाँके गनापुर कपासी (जानकी गाउँपालिका – ६) निवासी स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन बाँके जिल्ला के नेता राम मनोहर यादव को उपचार के क्रम में काठमाडौं ले जाते वक्त भाद्र १५ गते शुक्रबार रात को रास्ते में उनकी मृत्यु हो गयी थी । बुधबार रात हिरासत में स्वास्थ्य स्थिति बिगरने पर यादव को जिल्ला अस्पताल गुलरिया में भर्ती कराया गया था | वहाँ उपचार सम्भव नही होने पर थप उपचार के लिए गुरुवार को ही भेरी अञ्चल अस्पताल नेपालगञ्ज में भर्ती किया गया। भेरी अञ्चल अस्पताल में आइसियु खाली ना होने के वजह से राम मनोहर यादव को एम्बुलेन्स मार्फत् काठमांडू रेफर किया गया।

राम मनोहर यादव सहित हरपाल सिंह, इरफान शेख और राजितराम वर्मा को नेपाल प्रहरी ने भाद्र ७ गते गुरुवार जिल्ला समन्वय समिति बर्दिया के सभाकक्ष में उपप्रधानमन्त्री तथा स्वास्थ्य मन्त्री श्री उपेन्द्र यादव के उपस्थिति में हुई एक कार्यक्रम में मन्त्री जी को काला झण्डा दिखाते वक्त गिरफ्तार कर हिरासत में रखा गया था। उसी क्रम में गिरफ्तार किए गए हरपाल सिंह, इरफान शेख और राजितराम वर्मा जिल्ला प्रहरी कार्यालय, बर्दिया के हिरासत गुलरिया में ही है । इस से पहले, २०७२ साल चैत्र ६ गते नेपालगञ्ज को महेन्द्रपार्क से पकड़ कर यादव सहित ८ लोगों पर नेपाल सरकार ने राज्यविप्लवका मुद्दा चलाया था। उस मुद्दा का सुनुवाई करते हुए विशेष अदालत ने २०७४ साल फाल्गुण ३ गते सफाई दिया था। २०७३ साल मंसीर १० गते भी स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन द्वारा नेपालगञ्ज में आयोजित ‘रंगभेदी दिवस’ के अवसर पर यादव को नेपाल प्रहरी ने गिरफ्तार कर मंसीर १२ गते रिहा किया था। इसी तरह, २०७४ साल आषाढ़ २ गते भी स्थानीय निर्वाचन में ‘नो भोट’ का प्रचारप्रसार करने के आशंका में यादव को नेपाल प्रहरी ने गिरफ्तार किया था। उस मुद्दा मे उच्च अदालत तुलसीपुर के आदेश पर आषाढ़ १९ गते यादव को रिहा किया गया था। प्रहरी ने बिना कसूर और आधार बार-बार पक्राऊ कर यातना तथा जान मार्ने की धमकी दिया था | इस विषय में २०७३ साल मंसीर १४ गते यादव सहित चारौं आदमी ने नेपाल राष्ट्रिय मानवअधिकार आयोग के अध्यक्ष अनुपराज शर्मा को भेटकर ज्ञापनपत्र भी दिया था। इस तरह प्रहरी द्वारा हिरासत में यातना दी गई कारण उन लोगों द्वारा बाँके जिल्ला प्रहरी विरुद्ध दर्ता की गयी यातना तथा क्षतिपूर्ती मुद्दा समेत बाँके जिल्ला अदालत में विचाराधीन है। राम मनोहर यादव के तीन नाबालिग बच्चे हैं।

स्वतन्त्र मधेस गठबन्धन हनुमाननगर कंकालिनी नगरपालिका स्वराज समिति भारदह, सप्तरी के संयोजक सुरेन्द्र मंडल के नेतृत्व में आयोजित श्रद्धाञ्जली कार्यक्रम में नेपाल प्रहरी की इस कुकृत्यका घोर-निंदा करते हुए (१) प्रहरी हिरासत में मृत्यु हुए राम मनोहर यादव को शहीद घोषणा, (२) यादव के परिवारजनों को क्षतिपूर्ती, (३) बर्दिया जिल्ला के प्रमुख जिल्ला अधिकारी, प्रहरी उपरीक्षक सहित संलग्न अन्य दोषीयों को तुरन्त कार्रवाई, के साथ (४) इस घटना के निष्पक्ष स्वतन्त्र अन्तर्राष्ट्रीय छानबीन की मांग नेपाल सरकार से रखा है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of