Sun. Sep 23rd, 2018

कभी दिखती पहेली अनसुलझी,  कभी लगती खुली किताब सी : गणेश लाठ

२४ अगस्त

Ganesh Lath

बुरा न माने तू गर तो कहु
एक बात है हलक में फांस सी
बातें करती तू ज्ञानी सयानी सी
फितरत क्यू तेरी बेगानी सी ।

कभी दिखती पहेली अनसुलझी

कभी लगती खुली किताब सी ।

कभी सताती कभी सहलाती 
कभी रुलाती कभी गुदगुदाती ।

तेरे रूप अनेक, रंग अनेक
तेरे घर अनेक, घाट अनेक
कभी दिखती निर्दोष नादान सी
कभी लगती शातिर शैतान सी ।

लाख कर ले जतन
सुहाती नहीं मुँह पर तेरे
बाते उसूल व ईमान की
फरेबी है तू
फिर भी लगती मुझे प्यारी
तुही बता जिन्दगी क्यूं है तू ऐसी 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of