Mon. Sep 24th, 2018

कांग्रेस पदाधिकारी के लिए यह हैं मुख्य दावेदार

काठमांडू, ३० अप्रिल । नेपाली कांग्रेस केन्द्रीय कार्य समिति का बैठक आइतबार खत्म हो गया है । कहा गया था कि पदाधिकारी मनोनयन के लिए पुनः सोमबार निर्वाचित कार्य समिति सदस्यों की बैठक आयोजन किया जाएगा । लेकिन अन्तिम क्षण में आकर वह भी स्थगित हो गया है । कांग्रेस निटक स्रोत का कहना है कि पार्टी वरिष्ठ नेता रामचन्द्र पौडेल पक्षधरों की असन्तुष्टि के कारण बैठक स्थगित हो गया है ।
आज पार्टी सभापति शेरबहादुर देउवा रिक्त पार्टी पदाधिकारी पद में कुछ नेताओं को नियुक्त करने जा रहे थे, इसीलिए निर्वाचित केन्द्रीय सदस्यों की बैठक आह्वान किया गया था । इसमें पौडेल पक्षधर नेताओंने चेतावनी दे दी कि विचार–विमर्श के बिना कोई भी पदाधिकारी नियुक्ति नहीं हो सकतें है, अगर ऐसा किया गया तो बैठक बहिष्कार किया जाएगा । इसीलिए बैठक को स्थगित किया गया और आगामी वैशाख २२ गते के लिए पुनः बैठक आह्वान किया गया ।
अभी कांग्रेस में उप–सभापति, महामन्त्री और सह–महामन्त्री का पद खाली है, जो पार्टी नेतृत्व द्वारा नियुक्त किया जाता है । लेकिन ३ पदों के लिए अकांक्षियों की संख्या अधिक है । इसीलिए पार्टी संस्थापन पक्ष और पौडेल पक्ष के बीच विवाद दिखाई दे रहा है । उसमें पूर्वमहामन्त्री कृष्णप्रसाद सिटौला भी अपने पक्षधरों कुछ मांग रहे हैं ।

कौन–कौन हैं दोवेदार
रिक्त उप–सभापति पद के लिए विमलेन्द्र निधि, विजयकुमार गच्छदार और गोपालमान श्रेष्ठ मुख्य दावेदार हैं । श्रेष्ठ और गच्छदार ने तो उक्त पद में दावेदारी प्रस्तुत करते हुए पार्टी बैठक में लगभग २ घण्टा भाषण भी किया । देउवा निकट स्रोत का मानना है कि वह अपने विश्वास पात्र विमलेन्द्र निधि को उप–सभापति बनाना चाहते हैं । लेकिन गच्छदार और श्रेष्ठ का भी अपना–अपना दावा पेश कर है । कहा जाता है कि निधि को उप–सभापति बनाने के लिए ही पार्टी सभापति देउवा ने गच्छदार को संसदीय दल के उपनेता बनाए हैं । लेकिन गच्छदार अभी भी उप–सभापति छोड़ने के लिए राजी नहीं हो रहे हैं ।
इसीतरह महामन्त्री में पूर्णबहादुर खड़का प्रबल दावेदार हैं । कहा जाता है कि देउवा भी खडका को ही महामन्त्री बनाना चाहते हैं । लेकिन ज्ञानेन्द्रबहादुर कार्की और बालकृष्ण खाँड भी उक्त पद के लिए दावेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं । खाँड ने तो यहां तक चेतावनी दे दिया है कि अगर महामन्त्री पद नहीं मिलेगी तो मुख्य सचेतक की जिम्मेदारी से वह बाहर हो जाएंगे । समाचार स्रोत का मानना है कि देउवा उप–सभापति और महामन्त्री अपने गुट को रखकर सह–महामन्त्री पौडेल पक्षधर नेताओं को देना चाहते हैं । लेकिन पौडेल पक्षधर सह–महामन्त्री में सन्तुष्ट नहीं हो रहे हैं ।
कांग्रेस निकट स्रोत का कहना है कि पौडल पक्षधर उप–सभापति में दोवेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं । लेकिन यह सम्भव नहीं है । वैसे तो सह–महामन्त्री के लिए भी देउवा पक्ष में दावेदारी प्रस्तुत करनेवाले नेता कुछ ज्यादा ही हैं । देउवा निकट लोगों का कहना है कि सहमहामन्त्री के लिए पौडेल पक्षधर मान जाएंगे तो यह पद उनके लिए दिया जाएगा । लेकिन नहीं मानेंगे तो तीनों पद में अपने ही निकट व्यक्तियों को रखने की मनस्थिति में पार्टी सभापति देउवा हैं । अगर देउवा पक्ष धर का ही सह–महामन्त्री मिल जाएगा डा. प्रकाशशरण महत अथवा मानबहादुर विश्वकर्मा में किसी एक को सहमहामन्त्री बनाया जाएगा ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of