काठमांडू में रहने वाले (बंगाली)भारतीय नागरिक ने भव्य दुर्गा पूजा मनाया ।

दुर्गा पूजा नेपाल की राष्ट्रीय त्योहार है । यह दशैं के रूप मे मनाया जाता है । यह पुरे देश मे खुशी और उल्लास के साथ मनाया जाता है।
सार्वजनीन दुर्गा पूजा समिति ने सर्वप्रथम १९८८ मे काठमांडू मे पुजा महोत्सव मनाने का सुरुआत किया जो कि काठमांडू के लियेअद्वितीय बात थी । इसमे देवी दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वति, गणेश और कार्तिकेय की मिट्टी की मूर्ति बनाकर पूजा मनाने शुरूआत किया । कुछ बंगाली, काठमांडू में रहने वाले भारतीय नागरिक ने एक सपना देखा और उनलोगों ने कलकत्ता से सब कुछ मगाने का व्यवस्था किया और इसतरह यह सपना सच हो गया । यहाँ एक नाम बहुत महत्वपूर्ण श्री देबाशीष बसु का जो कि पूजा समिति के महासचिव हैं उनका बहुत ही महत्वपुर्ण योगदान है पुजा आयोजन मे । इस प्रक्रिया में 2012 रजत जयंती उत्सव रुप मे मनाया गया । कार्यक्रम का सुरुआत महाअष्टमी के दिन “बोधन” के साथ हुआ । महासप्तमी के दिन उदघाटन के  अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया । नेपाल  के माननीय उपराष्ट्रपति श्री परमानंद झा इस अवसर पर मुख्य अतिथि थे । भारतीय सांस्कृतिक केंद्र काठमांडू ने संसकृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया । नेपाल में भारत के कार्यवाहक राजदूत श्री जोयदीप मजुमदार विशेस अतिथि के रुप मे मौजुद थे ।पूजा समिति के मुख्य संरक्षक श्री राधेश्याम शराफ ने मेहमानओं का स्वागत किया तथापूजा समिति के अध्यक्ष श्री एम.के.झा ने उपस्थित सभी गण्यमान मेहमानों तथा  भक्तों के प्रति हार्दिक आभार प्रगट किया ।
लघु प्रतिभाशाली बच्चों और उत्साही युवाओं ने सहभागी होकर उत्सव को उत्कृष्ट तथा यादगार वनाया ।
मां दुर्गा को भोग लगाया गया और सभी भक्तों द्वारा प्रसाद ग्रहण किया गया ।
संस्कृत मंत्र और दुर्गाशति के सस्वर पाठ एक सम्मानित संस्कृत विद्वान द्वारा पूजा के दौरान किया गया था ।

YA SRI SWAYAM SWIKRITINAM BHAWNESHWA LAKSHMI PAPATMA  KRTIDHYAM HRIDAYESH BUDHHI SRADHA SATAM KUL JAN PRABHASYA LAJJA TAM TWAM PARIPALYA DEVI BISHWAM

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz