कुछ करे, मधेश में सिर्फ दो ही प्रदेश चाहिए : महतो

फल्गुन १, काठमांडू ।
सद्भावना पार्टी के अध्यक्ष राजेन्द्र महतो ने कहा है कि आगामी चैत्र–वैशाख में फिर मधेश आन्दोलन चरमउत्कर्ष पर पहुँचने वाला है । उनका मनना है कि परिस्थिति के अनुसार वर्तमान में सिर्फ आन्दोलन का स्वरुप परिवर्तन किया गया है, आन्दोलन अभी रुका नहीं । उन्होंने कहा– ‘परिवर्तित आन्दोलन का स्वरुप का सदुपयोग करते हुए मधेस–समस्या का समाधान करना चाहिए । नहीं तो चैत्र–वैशाख में होनेवाला आन्दोलन का परिणाम वर्तमान सत्ता के लिए सुखद नहीं हो सकता ।’ शनिबार रिपोटर्स क्लब में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने यह बात कही । rajendra-mahato-55
कार्यक्रम को सम्बोधन करते हुए उन्होंने आगे कहा– ‘वार्ता को सिर्फ टाईमपास का माध्यम बनाना नहीं चाहिए, ऐसा करने से आन्दोलन रुकनेवाला नहीं है । आन्दोलन तो अभी भी जारी ही है ।’ महतो का मनना है कि जो कुछ करे, मधेश में सिर्फ दो ही प्रदेश होना चाहिए । उन्होंने यह भी बताया है कि मधेसी जनता और राजनीतिक शक्ति हारा नहीं है, अभी तो मोर्चा शक्ति सञ्चय में लगा हुआ है । जब तक आन्दोलन का लक्ष्य प्राप्त नहीं होगा, तब तक आन्दोलन नहीं रुकने की बात उन्होंने बताया ।
अध्यक्ष महतो ने यह भी कहा है कि जारी मधेश आन्दोलन को सम्बोधन करे बगैर प्रधानमन्त्री केपी शर्मा ओली की भारत भ्रमण सफल होनेवाला नहीं है । उनका दावा था कि मधेश आन्दोलन में भारतीय जनता का समर्थन प्राप्त है । हि.स.

Loading...