कैसा रहा नेपाल में महामहिम रंजीत राय जी का कार्यकाल ?

आपने हर चुनौतियों का सामना अत्यन्त समझदारी के साथ किया है और उनके इस सफल कार्यकाल में उनका विशेष साथ डी.सी.एम. विनय कुमार जी ने दिया है । आपने हर कदम पर राजदूत महोदय का साथ दिया है । ऐसे भी हर व्यक्ति एक टीम को लेकर ही कार्य करता है और उसे सफलता के अंजाम तक पहुँचाता है ।DSCN6330

विपरित परिस्थितियों में श्री रंजीत जी ने गजब धैर्य का परिचय दिया:डॉ. श्वेता दीप्ति

Dr. shwata dipti 2

डॉ. श्वेता दीप्ति

कई मरतबा आप का व्यक्तित्व खुद आपका परिचय देता है । क्योंकि चेहरा खुद बोलता है । भारतीय राजदूत महामहिम रणजीत राय जी की शख्सियत भी कुछ ऐसी ही है । शांत और सौम्य व्यक्तित्व खामोशी में भी बोलती हुई आँखें, चेहरे पर मृदुल मुस्कान और शांत तथा सहज व्यवहार ये सारी बातें तालुकात रखती है, श्रद्धेय रणजीत राय जी से । जब भी उनसे मिली एक सहज–सी मुस्कान भी उनके चेहरे पर खिल गई यही सहजता व्यक्ति को खास बनाती है ।
अपने कार्यकाल में कई उतार–चढ़ाव को उन्होंने देखा । नेपाल और भारत की मित्रता को कई कसौटी पर कसा जाता रहा है । नेपाल और भारत का रिश्ता जितना सहज है, उतना ही दुरुह भी । जहां अपनत्व है, तो वहाँ परायापन भी है । नेपाल की धरती पर भारत के हर कार्य को सशंकित नजरों से देखा जाता रहा है । नेपाल के लिए उठाया गया हर कदम भारत के लिए आलोचनाओं का सफर होता है । ऐसी परिस्थियों में भारत के किसी भी कूटनीतिज्ञ का नेपाल में राजदूत बन कर आना चुनौतियों से भरा हुआ होता है । क्योंकि भारतीय हर पल यहाँ स्पष्टीकरण देना होता है, यकीन दिलाना होता है जो सहज नहीं होता । अधिक पढ़ें
Download PDF


No posts found.

ranjit-rae1

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz