क्या नेपाल सरकार सचमुच में डा. राउत को गब्बर सिंह समझने लगी है ?

मनोज बनैता, लहान, १० मंगसिर ।

लाहान के एक विधालय ल.ल.पु मे आयोजित डा. सि.के राउत नेतृत्व के मधेश गठबन्धन के कार्यक्रम में पुलिस हस्तक्षेप हुआ है । गठबन्धन के एक सदस्य देबकान्त सिंह द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार आज का कार्यक्रम शान्तिपूर्ण रैली निकालकर मधेशी शहीदों को माला अर्पण कर नमन करने का था । उक्त शान्तिपूर्ण कार्यक्रम में पुलिस द्धारा दमन किया गया है ।

ckr-lahan-1

पुलिस की दबंगगिरी के कारण दर्जनों कार्यकर्ता घायल हुए हैं और करीब तीन दर्जन कार्यकर्ता को पुलिस ने गिरफतार किया है । मधेश गठबन्धन के सिरहा संयोजक केदारनाथ यादव, नेता विष्णुु चौधरी लगायत दर्जनों कार्यकर्ताओं को गिरफतार किया गया है । एक युवा नेता प्रताप यादव के अनुसार “ हम लोग शान्तिपूर्ण रूप से नश्लभेद के खिलाफ में जुलुस निकालने लगे थे कि अचानक पुलिस ने हमारे स्पीकर, माईक और हमारी पम्पलेट छीन के ले गए । फिर भी हम विधालय के गेट पे शान्तिपूर्णरुप से बैठे रहे । कुछ देर के बाद उपर से आर्डर है कह के हमारे तीन दर्जन से ज्यादा लोगों को जानवर की भाँति पीटते हुए गिरफतार कर लिया गया ।”

ckr-lahan-2
ईलाका प्रहरी कार्यलय के अनुसार जुलुस राजमार्ग से निकलने न देने का आर्डर उपर से आया था । गठबन्धन के कार्यकर्ताओं की माँग थी कि उनलोगों को शहीद चौक जाने दिया जाए । जब उनलोगों ने अपने रैली को आगे ले जाने की कोशिश की तो पुलिस ने उन्हें रोका और बल प्रयोग किया ।

ckr-lahan-3
अब लाहानवासी कि जेहेन मे ऐसे कई सवाल उठ रहे हैं कि आखिर डा.सिके राउत से इतना डरती क्यों है नेपाल सरकार ? क्या वाक स्वतन्त्रता का अधिकार मांगना हमारा लोकतान्त्रिक अधिकार नहीं है ? क्या नेपाल सरकार सचमुच में डा. राउत को गब्बर सिंह मानने लगी है, जसके खुलेआम घूमने से उन्हें खतरा महसूस होता है ?

ckrlahan-4

 

ckrlahan-5

Loading...