ओबामा ने मोदी को दिया अमेरिका आने का न्यौता, खिल गया कमल (update)

modi

”दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने आपको निर्णायक जनादेश दिया है। मुझे उम्मीद है कि आपके नेतृत्व में भारत विश्व मंच पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।”

 -बराक ओबामा

श्वेता दीप्ति,16-05-2014. भारत की राजनीति में कमल खिल चुका है । कहते हैं कि कीचड़ में ही कमल खिलता है । भ्रष्टाचार, गरीबी, बेरोजगारीरुपी कीचड़ में जनता ने कमल को खिलने का मौका दिया है । उनकी उम्मीद पर भाजपा कहाँ तक खरी उतरेगी ये तो भविष्य बताएगा पर ये तो तय है कि आज भारत ही नहीं विदेशों में भी नमो का जादु चल चुका है । वो जो मोदी के नाम से खार खाए बैठे थे उन्हें भी नमो ने हिप्नोटाइज कर लिया है । मोदी के आने की आहट ने ही भारतीय सेन्सेक्स को ऊँचाई दे दी है आगे क्या होता है, इस पर हमारी निगाहें हैं । इस चुनाव में न तो ‘हाथ’ ने काम किया और नही ‘झाड़ु’ किसी का सफाया कर पाई । अमेरिका, चीन और पाकिस्तान जैसे देश भी मोदी की आर्थिक नीति के कायल हैं और ये उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें उनका साथ मिलेगा । नेपाल की नजरें भी मोदी पर टिकी हैं । सभी कयास लगा रहे हैं कि मोदी का आना नेपाल को किस तरह प्रभावित करेगा । निष्कर्ष पर तो पहुँचा नहीं जा सकता पर ये उम्मीद जरुर है कि काँग्रेस ने जिस तरह नेपाल को हासिए पर रखा शायद भाजपा की नीति इससे अलग हो । नेपाली जनता अपने आंतरिक मामले में भले ही किसी की दखल सहन न करे किन्तु अर्थ व्यवस्था और निवेश के क्षेत्र में उन्हें नई सरकार से उम्मीदें अवश्य होंगी । जिस तरह चीन ने यह विश्वास जताया है कि अगर केन्द्र में मोदी आते हैं तो भारत और चीन के सम्बन्ध मजबूत होंगे तो इस आधार पर नेपाल भी यह उम्मीद कर रहा है कि अगर भारत और चीन के सम्बन्ध मधुर होते हैं तो नेपाल को इसका अवश्य फायदा मिलेगा । हाल के विरटानगर अधिवेशन में प्रचण्ड ने भी यह विश्लेषण किया था कि नेपाल को अगर पश्चिमी देशों के वर्चस्व से बचना है तो चीन और भारत से मजबूत सम्बन्ध बनाने होंगे । अमेरिका ने गुजरात दंगे के बाद मोदी को वीसा देने से इनकार किया था और नेपाल के माओवादी नेताओं को आतंकवादी कह कर तिरष्कृत किया था लेकिन नेपाल में ये सत्ता में आए और आज मोदी भारत के केन्द्र में सक्रिय होने जा रहे हैं ये देख कर अब उनके सुर बदलने लगे हैं और वो सहकार्य की उम्मीद कर रहे हैं । खैर, जो भी हो, फिलहाल तो हम भारतीय जनता और भाजपा के साथ–साथ नरेन्द्र मोदी जी को बधाई और शुभकामना दे रहे हैं जिन्होंने उम्मीद से बड़ी जीत हासिल की है ।

ओबामा ने दी मोदी को बधाई, दिया अमेरिका आने का न्यौता

obama10वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने शुक्रवार देर रात नरेंद्र मोदी को टेलीफोन करके उन्हें लोकसभा चुनाव में शानदार जीत मिलने पर बधाई दी। इस बातचीत में दोनों नेताओं ने भारतीय-अमेरिकी रणनीतिक साझेदारी और वैश्विक आर्थिक स्थिति पर चर्चा की।

ओबामा ने मोदी से कहा कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र ने निर्णायक जनादेश दिया है। अमेरिकी नेता ने आशा जताई कि मोदी के नेतृत्व में भारत वैश्विक स्तर पर असरदार भूमिका निभाएगा।

वहीं, व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जे कार्नी ने कहा कि प्रधानमंत्री बनने जा रहे नरेंद्र मोदी का अमेरिका में दौरे के लिए स्वागत है। अमेरिका गुजरात के दंगों के चलते 2005 से मोदी को वीजा देने से इनकार करता रहा है।

चुनाव परिणाम आने के कुछ घंटों बाद व्हाइट हाउस ने विश्वास जताया कि मोदी सरकार के अंतर्गत भारत-अमेरिका रिश्ते प्रगाढ़ होंगे।

कार्नी ने वीजा मुद्दे के बारे में पूछे जाने पर अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भारत के प्रधानमंत्री को अमेरिका की यात्रा के लिए वीजा मिलेगा। हमें नई सरकार और नए प्रधानमंत्री के साथ मिलकर काम करने की उम्मीद है। मुझे इस संबंध में कोई समस्या नहीं लगती।

कार्नी ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री का अमेरिका में स्वागत किया जाएगा। सन् 2005 में अमेरिकी विदेश विभाग ने 2002 में गुजरात दंगों के बाद कथित मानवाधिकार उल्लंघनों के आधार पर अमेरिका में यात्रा के लिए मोदी का वीजा वापस ले लिया था।

गौरतलब है कि अमेरिका बार-बार कहता रहा है कि उसकी मोदी को लेकर वीजा नीति में कोई परिवर्तन नहीं आया है और वह किसी अन्य आवेदनकर्ता की तरह वीजा के लिए आवेदन कर सकते हैं और उसकी समीक्षा का इंतजार कर सकते हैं। लेकिन जब फरवरी में भारत में उसकी राजदूत नैन्सी पावेल ने अहमदाबाद में मोदी से मुलाकात की तो अमेरिका ने बायकाट की इस नीति में परिवर्तन का संकेत दिया।

कार्नी ने कहा कि हम इस ऐतिहासिक चुनाव में बहुमत हासिल करने पर भाजपा और नरेंद्र मोदी को बधाई देते हैं। कार्नी ने भारत-अमेरिका रिश्तों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि राष्ट्रपति मोदी से संपर्क करेंगे। और जैसा मैंने कहा है, हम इस ऐतिहासिक चुनावों में अधिकतर सीटें जीतने के लिए उन्हें और भाजपा को बधाई देते हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह नीत निवर्तमान संप्रग सरकार के दौरान दोनों देशों ने जो प्रगति की उस पर रिश्ते बनाने के प्रति ओबामा आशान्वित हैं।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz