गैर सरकारी सँस्थाओं श्रोत और साधन के अभाव में बन्द होने की अवस्था

SAM_3086(1)नेपालगन्ज , पवन जायसवाल, श्रावण १० गते
सामाजिक बिकास और परिवर्तन के लियें स्थापित कुछ गैर सरकारी सँस्थाओं श्रोत और साधन के अभाव में बन्द होने की अवस्था में पहुँच गया है , श्रावण १० गते हुआ एक कार्यक्रम में सहभागीयों ने बताया ।
गैर सरकारी सँस्था महासँघ, बाँके के आयोजना में नेपालगञ्ज मे गैर सरकारी सँस्था महासँघ, बाँके के पूर्ब अध्यक्ष तेज बिक्रम शाह के प्रमुख अतिथि में सम्पन्न हुआ कार्यक्रम में आवद्ध सँस्थाओं के साथ अन्तरसम्बाद कार्यक्रम में सहभागियों ने सामाजिक बिकास और परिवर्तन के लियें स्थापित कुछ गैर सरकारी सँस्थाओं श्रोत और साधन के अभाव से बन्द होने की बात बताया । उन लोगों ने  काम ही नही करते है लेकिन गैससओं ने  पुहँच के भर में दातृसँस्थाओं को अनुदान  मिलते आ रहा है सहभागी लोगों ने अपना– अपना सिकायत किया ।
असल उद्धेश्यों से स्थापित हुआ गैससओं को बिभिन्न नामों में  हतोत्साहित करने का काम सिर्फ हुआ  है बताया  । उन्होने कहा सहकार्य के नाम पर स्थानीय सँस्थाओं को केवल किनारा का साँक्षी नाम जैसे होने का  बताया । SAM_3089
गैर सरकारी सँस्था महासँघ के क्षेत्रीय अध्यक्ष धर्मलाल रोकाय ने गैसस का समस्या समाधान करने के लियें सभी लोग एकआपस में मिलकर काम करने के लियें बताया । स्याक नेपाल के निर्देशक शिबलाल पाण्डे ने दातृसँस्थाओं का प्रस्तावना प्रकृया पारदर्शी होने के लियें बताया । महासँघ के सचिव प्रमोद रिजाल ने सहजीकरण किया कार्यक्रम में गैसस महासँघ बाँके ने अभी तक किया  गतिबिधियों के बारे में सह–सचिब नमस्कार शाह ने प्रकाश डाला था ।
इसी तरह गैससकर्मीयों में बीर बहादुर बि.क., शंकर थारु, बिष्णु खनाल, शोभा बि.सि., बिमला काउचा मगर, बिष्णु खनाल, शोभना मिश्र लगायत लोगों ने महासँघ के सामाजिक सवालों में  नेतृत्वदायी भुमिका लेने के लियें आग्रह किया ।। उन लोगों ने नितिगत परिवर्तनों के लियें समेत महासँघ को भुमि का अपरिहार्य होने से सशक्त रुप में डटने के लियें सुझाव दिया । कार्यक्रम का समापन महासँघ के जिला अध्यक्ष प्रभात कुमार ठकुरी ने किया  कार्यक्रम में ४० से अधिक  गैसस के प्रमुख तथा प्रतिनिधियों का उपस्थिति रही गैसस के सह–सचिव नमस्कार शाह ने बताया ।SAM_3093

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: