गोरखाली मिलन समारोह-भारत नेपाल मैत्री संबंधों को मजबूती प्रदान

gorkha milan१२ अक्टूबर,२०१४ ,हिमालय गौरव, उत्‍तराखण्‍ड। भारत नेपाल मैत्री संबंधों को मजबूती प्रदान करने के लिए वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट द्वारा देहरादून के गढ़ी कैंट स्थित शहीद दुर्गा मल्ल पार्क में गोरखाली मिलन समारोह का आयोजन किया गया है, कार्यक्रम का शुभारम्भ प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत ने दीप प्रज्वलित कर किया. नेपाल के कार्यवाहक राजदूत कृष्ण प्रसाद ढकाल, के अलावा नेपाल के सांसद दिल्मान पखरिन ने भ शिरकत की.
मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि गोर्खा समुदाय हमारे समाज का अभिन्न अंग है। कार्यक्रम में उपस्थित नेपाल के राजदूत कृष्णप्रसाद ढ़काल का ध्यान आकर्षित करते हुए सीएम ने कहा कि हमें जितना गर्व उत्तराखण्ड की परम्पराओं पर है उतना ही गर्व नेपाल की परम्पराओं पर है। दोनों संस्कृतियां एक दूसरे की पूरक हैं। ऐसा लगता है प्रकृति ने भी भारत व नेपाल को एक ही सांचे में ढाला है ।
सीएम ने कहा कि भारत व नेपाल की समस्याएं एक जैसी हैं। केन्द्र में मंत्री रहते हुए उनके द्वारा अनेक बाढ़ नियंत्रण के काम किए गए थे जिसका लाभ बिहार व नेपाल की जनता को मिला है। दोनों देश जब जलसंसाधनों का सदुपयोग करने लगेंगे तो विश्व के समृद्धतम देशों में से होंगे। सीएम ने पंचेश्वर बांध परियोजना पर सहमति के लिए नेपाल सरकार का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इससे दोनों देशों को साझा लाभ होगा। भारत व नेपाल के मैत्री संबंध को और मजबूत बनाने में वल्र्ड गोर्खा फाउंडेशन के प्रयास सराहनीय हैं। गोर्खा समुदाय हमारी वीर परम्परा के आभूषण हैं। उन्होंने वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट की गोरखा लोक संस्कृति के संरक्षण हेतु भवन की मांग अपर आश्वासन देते हुए कहा कि आप जो भी करना चाहते हैं वह कागजों में होना चाहिए ताकि उस पर हम कार्यवाही कर सकें. उन्होंने ऐसी पहल को दोनों देशों के संबंधों की प्रगाढ़ता के लिए महत्वपूर्ण बताते हुए समुदाय के लोगों को दशैं और दीवाली की शुभकामनायें देते हुए कहा कि इससे दो हिन्दू राष्ट्रों की धर्मसंस्कृति करीब आएगी साथ ही उन्होंने पंचेश्वर बाँध निर्माण की वकालत करते हुए कहा कि यह दोनों देशों की आर्थिकी के लिए मील का पत्थर साबित होगा.
नेपाल के कार्वाहक राजदूत कृष्ण प्रसाद ढकाल ने हाल ही में देश के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ़ करते हुए कहा कि जिस तरह की बातें इन दिनों में हुई है उससे कई टूटे दिल ही नहीं जुड़े हैं बल्कि हमारी संस्कृतियों में रोटी बेटी के सम्बन्ध और मजबूत हुए हैं. उन्होंने भारत में रह रहे गोरखा समुदाय के लोगों को बताया कि किस तरह मोदी जी ने नेपाल में अपने अभिभाषण में गोरखा जाति के मनोबल को उंचा उठाकर भारत के लिए फ़ौज में दी जा रही सेवाओं की तारीफ़ की है. उन्होंने कह्गा कि वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम से वह अभिभूत हैं और उन्हें देहरादून बेहद पसंद आया है.
वहीं नेपाल के सांसद दिलमान पाखरिन ने नेपाल देश को गौतम बुद्ध की जन्मस्थली से जोड़कर यह सन्देश देने की कोशिश की है कि नेपाल पहले से ही धर्म और लोकतंत्र की मिशाल रहा है. उन्होंने भारत को विश्व का बढ़ा लोकतांत्रिक देश मानते हुए भारत नेपाल सम्बन्धों में हाल ही में हुई उल्लेखनीय पहल की प्रशंसा करते हुए विश्वास जताया है कि आगामी समय में दोनों देश हर क्षेत्र में विकास की नई कहानी लिखेंगे. वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट द्वारा आयोजित कार्यक्रम को बड़ी सोच मानते हुए उन्होंने अपनी शुभकामनायें देते हुए कहा कि इस तरह से दो देशों की संस्कृति का समागम होना जरुरी भी है ताकि हम एक दूसरे को और करीब से समझ सकें.
विश्व एकता हाम्रो प्रयास का नारा देने वाले इस ट्रस्ट के अध्यक्ष समीर प्रधान ने बताया कि वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट नेपाली भाषी गोरखाली समाज को एकजुट करने के लक्ष्य को लेकर काम कर रही है. उन्होंने कहा कि भारत नेपाल सहित इस समुदाय के लोग विश्व में किसी भी संघ संस्था या पार्टी से जुडा हुआ क्यों न हो फिर भी उसे अपनी लोकभाषा संस्कृति के लिए एकजुट होकर आगे पहल करनी होगी ताकि हमारी चिरायु संस्कृति को बाल मिल सके, यही कारण भी है कि उनका यह ट्रस्ट पहली बार उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में इस तरह का गोरखाली मिलन समारोह आयोजित कर रहा है. दिल्ली से आये वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट के सचिव घनश्याम शर्मा ने प्रेस को जानकारी देते हुए बताया कि इस कार्यक्रम का मुख्य लक्ष्य जहाँ एक ओर सम्पूर्ण गोरखा समाज को एकजुट कर भारत नेपाल मैत्री संबंधों की प्रगाड़ता के लिए काम करना है गोरखा डेमोक्रेटिक फ्रंट की अध्यक्ष श्रीमति उमा उपाध्याय ने बताया कि वह वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट के इस प्रयास का पूर्णत: समर्थन करती है साथ ही वह व उनकी पार्टी से जुड़े कार्यकर्ता हर संभव इस प्रयास में हैं कि इस कार्यक्रम में ज्यादा से ज्यादा सम्पूर्ण देश का गोरखाली समाज शिरकत करे क्योंकि ट्रस्ट सिर्फ एक मिलन समारोह तक ही सीमित नहीं है बल्कि उसका प्रयास भारत नेपाल देश के मैत्री संबंधों को मजबूत बनाना भी है जो हमारे लिए गर्व का विषय है. वहीँ उत्तराखंड नेपाली भाषा समिति के अध्यक्ष बालकृष्ण बराल ने वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट के इस प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि यह सौभाग्य की बात है कि हम प्रवासी गोरखाली समुदाय के लोगों को नेपाल व देश के विभिन्न प्रान्तों से आये अपने विशाल समुदाय के साथ अपनी लोक भाषा पर काम करने का सुअवसर प्राप्त हुआ है जिससे हमारे समाज में एकजुटता के प्रयास को बल मिलेगा और हम अपनी भाषा के लिए अमूल्य योगदान देने में सफल रहेंगे.
गोरखाली हरितालिका तीज कमेटी की पूर्व अध्यक्ष व कांग्रेस नेत्री पूजा सुब्बा ने कहा है कि हम सब इस समय दलगत राजनीति से उठकर एक साथ एक मंच पर अपनी लोकभाषा और लोकसंस्कृति के लिए उठ खड़े हुए हैं, यह सौभाग्य की बात है कि वर्ल्ड गोरखा फाउंडेशन ट्रस्ट ने नेपाल भारत को एक सूत्र में पिरोकर नए मैत्रीपूर्ण सम्बन्धों को जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण पहल की है जिसका हम सभी स्वागत करते हैं. ऐसे कार्यक्रमों के आयोजन से हमारा समाज बिखरने की जगह एक सूत्र में बंधेगा जिससे हम अपनी लोक संस्कृति के लिए कर रहे प्रयासों को सार्थक बनाने में सफल रहेंगे.
देर रात्रि तक चले इस कार्यक्रम में नेपाल से आये प्रसिद्ध गायक बद्री पंगेनी व ज्योति लोहनी व भारत के सिक्किम दार्जलिंग से आये विक्रम कालीकोटे व पवन द्याली द्वारा प्रस्तुत किये गए रंगारंग कार्यक्रम का स्थानीय जनता ने जमकर लुफ्त उठाया कार्यक्रम में समुदाय के प्रमुख लोगों में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष मेजर बी पी थापा, गोरखा सुधार सभा के अध्यक्ष कर्नल बीएस क्षेत्री, गोरखा डेमोक्रेटिक फ्रंट की अध्यक्ष श्रीमती उमा उपाध्याय, कर्नल एस एच क्षेत्री, उपेन्द्र थापली, लिम्बू समाज के अध्यक्ष हेम बहादुर, लिम्बू गोरखाली समाज तमुधि केनर बहादुर, कीरत राय समाज के प्रेम कुमार, बलभद्र खलंगा समिति के अध्यक्ष राम सिंह थापा, नेपाली भाषा समिति के अध्यक्ष बराल, मगर समाज से प्रोफ़ेसर जे पी थापा, भारतीय गोरखा परिसंघ उत्तराखंड के अध्यक्ष कर्नल डीएस खडका, गोरखा मोर्चा के अध्यक्ष जे बी कार्की, जीडीएफ के पूर्व अध्यक्ष सूर्यविक्रम शाही, अंजुला कार्की, श्रीमती गोदावरी थापली, सुनीता क्षेत्री, मीनू आले, प्रमिला खत्री, मीनू बिष्ट, नंदनी शर्मा, मंजू कार्की, सीमा शाही, रमा गुरुंग, निर्मला काफले, लीला क्षेत्री, विनीता प्रधान, लीला शर्मा, कर्नल भूपेन्द्र सिंह क्षेत्री, नलिन क्षेत्री, दुर्गेश पंडित, कमल कुमार राई, अशोक प्रधान, विशाल थापा, इश्वर रेग्मी, टेक बहादुर थापा, रोबिन राणा इत्यादि उपस्थित [email protected]

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz