चीन द्वारा प्रस्तावित वान बेल्ट, वान रोड के प्रति भारत के तरफ से असंतुष्टि

काठमाण्डू, जेठ १२
चीन द्वारा प्रस्तावित वान बेल्ट, वान रोड एक पक्षीय कदम कहते हुए भारत ने राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी मार्फत अप्रत्यक्ष रुप में असंतुष्टि का संदेश दिया है ।
चिनिया सरकारी समाचार एजेन्सी सिन्ह्वा मे प्रकाशित वार्ता में राष्ट्रपति मुखर्जी ने कहा, वान बेल्ट, वान रोड सभी देशों के साथ परामर्श करके तथा ज्यादा देश संलग्न होने बाले कार्यक्रम अन्तराष्ट्रीय मूल्य व मान्यता अनुसार सरोकार सखने वाले सभी पक्षों के विचार प्रविम्बित होनी चाहिये ।
स्थल व जल मार्ग के माध्यम से एशिया, अफ्रिका तथा यूरोप को समेत जोडने बाली वान बेल्ट, वान रोड परियोजना का अवधारणा चिनिया राष्ट्रपति सी जिनपिङ ने सन् २०१३ मे प्रस्तावित किये थें ।
३५ वर्ष तथा अर्वौ अमेरिकन डालर खर्च होने बाली इस परियोजना मे नेपाल भी सामिल है ।

Loading...