जनकपुर के लौज दिन भर पैक, रात मे खाली

janakpurकैलास दास , जनकपुर । आपको इस शीर्षक को पढ कर आश्चर्य होगा । कोई भी व्यक्ति लौज रात मे रहने के लिए लेता है न कि दिन मे समय काटने के लिए । लेकिन जनकपुर के लज की बात करें तो दिन मे खाली नही रहता है और रात मे खाली रहता है । यही कारण है कि अगर आप दिन मे लज लेना चाहते है तो रात की अपेक्षा दूगुणी भाडा देना परेगा ।

हिमालीनी मे इससे पहले भी मैने जनकपुर के सन्दर्भ मे लिखा था ‘पवित्र नगरी की अपवित्र कथा’ परन्तु उस समय लोगों की दृष्टि नही पहुँची थी । अभी जनकपुर के प्रत्येक चौक चौक पर इसकी चर्चा हो रही है ।

किछु लोगों को कहना है कि जनकपुर के लज मे विशेषकर ग्रामीण भेग के महिला पुरुष बजार करने के बहाने आते है और भर दिन शारीरिक मनोञ्जन करते है । शाम होते ही पुनः अपने घर चले जाते है । अगर आपको कोई महिला साथ नही है तो आप स्वयं लज मालिक से बात कर सकते है । वही आप के लिए महिला भी लाकर देगा । भले ही पैसा जो भी ले ।

पुलिस प्रशासन से बात करने पर उन्होने कहा कि हम स्वीकार करते है कि जनकपुर मे धरल्ले से वेश्वयावृति हो रही है । इसे नियन्त्रण करने के लिए हमने कतिपय लज मे छापेमारी भी किया है । परन्तु जब तक स्थानीय निकाय से इसे नियन्त्रण का अभियान नही चलाया जाऐगा, नियन्त्रण करना कुछ मुश्किल आवश्य है ।

जनकपुर धार्मिक नगरी है । परन्तु धर्म के नाम पर बहुत सारी विकृतिया भी है । इसे रोकने के लिए प्रत्येक व्यक्ति का अपना दायित्व सम्झना होगा । लज के एक निकटतम व्यक्ति ने कहा कि दिन मे एक कोठा तीन बार बुक किया जाता है । अगर आप बाहर से आए है और २४ घण्टा रहना चाहेगें तो आप को साम के शिवाय दिन मे नही मिलेगा उन्होने कहा । इसे नियन्त्रण करना आवश्यक है ।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz