जनवरी 2017 का राशिफल : आचार्य राधाकान्त शास्त्री

IMG-20160409-WA0007

मेष :- इस महीने आप के अंदर नई ऊर्जा का संचार होगा। क्योंकि मंगल आपके ग्याहरवें भाव से गोचर कर रहा है। छठवें भाव से गुरु का गोचर इस बात का संकेत दे रहा है कि, नौकरी में अचानक लाभ या तरक्की मिल सकती है। हालांकि उच्च अधिकारियों व सहयोगियों से तालमेल बनाकर चलना होगा। अगर आप नौकरी बदलने के बारे में सोच रहे हैं तो वह इस अवधि में संभव है।

उपाय: तांबे या सोने का कड़ा धारण करें। लाल रंग के वस्त्र अधिक धारण करना व घर में लाल रंग के पौधे लगाकर उनकी देखभाल करना फायदेमंद रहेगा।

वृषभ :- इस महीने शुक्र आपके दशम भाव से गोचर कर रहा है, इसके परिणामस्वरूप आप ख़ुद को काफ़ी मजबूत महसूस करेंगे। नौकरी में सीनियर्स की वाहवाही मिलने की सम्भावना है। 26 जनवरी के बाद शनि आपके अष्टम भाव से गोचर करेंगे जिसके कारण नौकरी में परिवर्तन या तबादला हो सकता है या कार्यक्षेत्र से जुड़ी कोई यात्रा भी कर सकते हैं। पंचम भाव से गुरु का गोचर होने की वजह से नौकरी व बिजनेस में आपको कम मेहनत से ज्यादा लाभ मिलने की सम्भावना है।

उपाय: सुगन्धित चीज़ों का प्रयोग करना आपके लिए अच्छा है। साथ ही कन्याओं में चॉकलेट, टॉफी, सफेद मिठाई बांटना भी लाभदायक रहेगा।

मिथुन:- इस माह आपकी राशि के स्वामी बुध आपके सातवें भाव से गोचर करेंगे। जिसके कारण आपका स्वास्थ्य काफी अच्छा रहेगा और आप पूरे मनोयोग से काम कर पाएंगे। तीसरे भाव से गोचर कर रहा राहु आपके पराक्रम में वृद्धि करेगा और आप अधिक परिश्रम कर पाएंगे। इस दौरान गुरु के चौथे भाव में गोचर करने के कारण नौकरी व बिजनेस में आपको असाधारण सफलता हाथ लग सकती है। शनिदेव अपनी गोचरीय स्थिति के कारण आपके छठे भाव में विराजमान रहेंगे।

उपाय: हरे रंग के कपड़ों का प्रयोग व कांसे का कड़ा धारण करना आपके लिए लाभदायक रहेगा।

कर्क :- इस माह राहु आपके द्वितीय भाव से गोचर करेंगे इसलिए धन के मामलों में आपको सतर्कता बरतनी पड़ेगी। परिवार से दूर रहने की सम्भावना भी बन रही है। तीसरे भाव में गुरु का गोचर आपके बिगड़ते हुए कार्यों को बनाने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। पंचम भाव से गुजरते हुए शनि देव संतान की शिक्षा के लिए कुछ शुभ संकेत नहीं दे रहे हैं। मगर जीवन साथी से आपके सम्बन्धों को बेहतर बनाने के लिए यह कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

उपाय: मछलियों को चारा खिलाना आपके लिए शुभ रहेगा।

सिंह :- इस माह गुरु आपके द्वितीय भाव से गोचर करेंगे जिसके फलस्वरूप पारिवारिक जीवन में खुशियाँ बरक़रार रहने की सम्भावना है। आप अपनी प्रभावशाली वाणी से लोगों को मन्त्र-मुग्ध करने में सफल रहेंगे। परिवार में आपका आदर व मान-सम्मान बढ़ेगा। लग्न में विराजमान राहु इशारा कर रहे हैं कि आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है। शनि की चौथे भाव में गोचरीय स्थिति से मानसिक शांति भंग होगी व माता के स्वास्थ्य को लेकर भी चिंता बढ़ेगी।

उपाय: सूर्य नमस्कार करना व जेब में लाल-नारंगी रंग का रुमाल रखना आपके लिए फायदेमंद रहेगा ।

कन्या :- इस माह गुरु के कुंडली में प्रथम भाव में गोचर करने से आपके अंदर आध्यात्मिकता का संचार होगा। मन प्रसन्न रहेगा और आप पहले के मुकाबले ज्यादा खुशी महसूस करेंगे। बारहवें भाव से गुजरता राहु विदेशी स्रोतों से आपको लाभ दिलवा सकता है, लेकिन इसके साथ ही अनिंद्रा व पैरों में तकलीफ उत्पन्न होने की भी सम्भावना बनी रहेगी। तीसरे भाव में विराजमान शनि देव आपके पराक्रम में निस्संदेह वृद्धि करने वाले हैं। आप पहले के मुक़ाबले ज्यादा जोश और उत्साह से भरे रहेंगे। इस दौरान आपकी कार्य क्षमता भी काफी बढ़ जाएगी।

उपाय: छात्रों को स्टेशनरी का सामान (कॉपी, पेन, पेन्सिल इत्यादि) बांटना आपके लिए लाभदायक रहेगा।

तुला :- इस माह शनि आपके दूसरे भाव से गोचर करेंगे जिसके फलस्वरूप शेयर बाजार, सट्टे-लॉटरी आदि से आपके आकस्मिक धन लाभ प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही भूमि-मकान आदि कार्यों में भी आप निवेश कर सकते हैं। देवगुरु बृहस्पति आपके द्वादश भाव में विराजमान होने से आपकी पारिवारिक खुशियों में वृद्धि करेंगे। छात्रों के लिए प्रतियोगी परीक्षा हेतु समय श्रेष्ठ रहेगा। राहु के पंचम भाव में गोचर करने से आपको कम परिश्रम से ज्यादा लाभ मिलने की सम्भावना रहेगी। आपको अपने कार्य क्षेत्र में मान-सम्मान व प्रतिष्ठा मिलनी भी संभव है।

उपाय: स्त्रियों को सफेद वस्त्र दान में देने व उनका यथोचित आदर-सत्कार करने से आपका जीवन बेहतरीन चलेगा।

वृश्चिक :- इस दौरान शनिदेव आपके प्रथम भाव से गोचर करेंगे। स्वास्थ्य के लिहाज से सतर्कता बरतना आपके लिए जरुरी होगा। आपके साहस व पराक्रम में वृद्धि होगी। भाई-बहनों से पूर्ण सहयोग मिलने व उनके तरक्की करने की भी सम्भावनाएं रहेंगी। नौकरी में आप जी-तोड़ परिश्रम करेंगे मगर परिणाम उम्मीद से थोड़ा कम मिलने की सम्भावना है। बृहस्पति के एकादश भाव में गोचर करने से आप मानसिक रूप से काफी सबल रहेंगे। आपकी सूझ-बूझ व निर्णयशक्ति में वृद्धि होगी। संतान के लिए यह समय बहुत शुभ रह सकता है।

उपाय: मांस, मदिरा, हिंसा, परपीड़ा, निंदा का त्याग करना आपके लिए लाभदायक रहेगा ।

धनु :- इस माह सूर्यनारायण व बुध की प्रथम भाव में गोचरीय स्थिति के कारण आपका बुलंदियों पर पहुँचाना संभव है। नौकरी व बिजनेस में आपको रिकॉर्ड-तोड़ सफलता हाथ लग सकती है। उच्च अधिकारियों की कृपा आप पर जमकर बरसने की सम्भावना है। नौकरी में प्रमोशन व कोई बड़ी उपलब्धि हासिल करने की योग बने हुए हैं। नवम भाव में राहु का गोचर कोई लंबी यात्रा के संकेत दे रहा है। धार्मिक स्थलों से जुडी यात्रा भी इस दौरान संभव है। पिता को अपनी सेहत के प्रति थोड़ा सतर्क रहना होगा। गुरु के दशम भाव में गोचर करने के कारण नौकरी में आपको अपार सफलता, वेतन वृद्धि आदि मिलने की सम्भावना रहेगी।

उपाय: आलस्य का त्याग करें व आध्यात्मिक जीवन को अपनाना आपके लिए शुभ रहेगा।

मकर:- इस माह शनिदेव आपके एकादश भाव से गोचर करेंगे जिसके फलस्वरूप आप काफी ऊर्जावान और सक्रिय रहने वाले हैं। स्वास्थ्य भी काफी बेहतर रहने की सम्भावना रहेगी। आपके रुके हुए कार्य इस दौरान फिर से रफ़्तार पकड़ सकते हैं। राहु आपके अष्टम भाव से गुजरेंगे जिसके फलस्वरूप स्वास्थ्य के प्रति थोड़ा सावधानी रखना भी अनिवार्य रहेगा। खासतौर पर नेत्रों में कष्ट होने की सम्भावनाएं हैं। आप कोई लंबी धार्मिक यात्रा पर भी निकल सकते हैं। माता को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना होगा। गुरु का आपके नवम भाव से गोचर आपके पराक्रम व साहस में वृद्धि करेगा।

उपाय: मांसाहार का त्याग करना व नशेबाजी से दूर रहना आपके लिए हितकर रहेगा।

कुंभ:- इस माह शनि आपके दशम भाव से गोचर करेंगे जिसके फलस्वरूप नौकरी में आप काफी परिश्रम करने वाले हैं। आप अपने कार्य को बेहतर करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। शुक्र के प्रथम भाव में केतु के साथ स्थित होने व चतुर्थ भाव पर शनि की दृष्टि होने के कारण माता के स्वास्थ्य के लिए यह एक शुभ समय नहीं है। शुक्र व मंगल का प्रथम भाव में स्थित होना पिता व भाइयों से आपको पूर्ण सहयोग मिलने की ओर इशारा कर रहा है। परन्तु स्वास्थ्य की दृष्टि से केतु का प्रथम भाव में गोचर करना किसी भी लिहाज से उचित नहीं है।

उपाय: पर-निंदा व अन्याय करने से बचें व गरीब व्यक्तियों की मदद करना आपके लिए शुभ रहेगा।

मीन:- इस माह शनि आपके नवम भाव से गोचर करेंगे। जिसके फलस्वरूप आप कम मेहनत से ज्यादा लाभ कमा पाएंगे। मित्रों और बड़े भाइयों से आपको पूर्ण सहयोग मिलने की उम्मीद रहेगी। पिता और छोटे भाई-बहनों को अपने स्वास्थ्य के प्रति सतर्कता बरतनी होगी। इस अवधि में अपने विरोधियों पर आप हावी रहेंगे। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को कोई बड़ी सफलता हाथ लग सकती है। बृहस्पति आपके सप्तम भाव से गोचर करेंगे जिस कारण आपका स्वास्थ्य काफी अच्छा रहेगा। अपने कार्यक्षेत्र को लेकर आप कोई यात्रा कर सकते हैं। इस दौरान आपकी अंदर आध्यात्मिकता बढ़ेगी।

उपाय: किसी के विवाह या मंगल काम में तन, मन, धन से मदद करना आपके लिए लाभदायक रहेगा।

आचार्य राधाकान्त शास्त्री, बेतिया, प.चम्पारण, बिहार, भारत।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz