जहाँ मतदान के लिए दो दिन पैदल चलना पड़ता है

म्याग्दी, २१ नवम्बर । मार्गशीर्ष १० गते होने जा रहे चुनावी तिथि नजदिक आ रहा है, लेकिन म्याग्दी जिला के कुछ गांव के मतदाताओं को चिंता है कि अपना काम छोड़ कर कैसे मतदान करने के लिए जाएँ ! क्योंकि उन लोगों को गांव से मतदान स्थल तक पहुँचने के लिए पूरे दो दिन पैदल चलना पड़ता है । मतदान करके उसी दिन वे लोग घर वापस नहीं हो सकते है । इसीलिए मतदान से एक दिन पहले ही उन लोगों को गांव से निकलता पड़ता है । इस तरह का विकट गांव है– धौलागिरि गांवपालिका–४ के सिम्कोश, बगर और नाउरा गांव । यहां रहनेवाले जनता को अगर मतदान करना है तो अगले दिन ही मतदान स्थल खिवाङ जाना पड़ता है ।


इस जिला में एक ही चुनाव क्षेत्र है । प्रदेश (ख) अन्तर्गत पड़नेवाले दुर्गम गांव बगर में ३४, सिम्कोश और नाउरा में १०–१० घरपरिवार बसोबास करते आ रहे हैं । तीनों गांव में लगभग २ सौ मतदाता हैं । बगर गांव से मतदान स्थल खिवाङ पहुँचने के लिए पूरे ८ घण्टा पैदल चलना पड़ता है । ८ घण्टा पैदल चल कर मतदान के लिए जेष्ठ नागरिक और अशक्त व्यक्ति नहीं जा सकेत हैं, वे लोग मतदान करने से वञ्चित हो जाते हैं । विकट गांव होने के कराण कई उम्मीदवार भी यहां भोट मांगने के लिए नहीं जाते हैं । यहां के मतदाता बताते हैं कि हम लोगों ने अभी तक उम्मीदवार नहीं दिखे हैं । उन लोगों ने यह भी कहा है कि स्थानीय चुनाव के अलवा संसदीय चुनाव में अभी तक कोई भी उम्मीदवार इस गांव में नहीं आए हैं ।
यहां के लोग एफएम रेडियो सुनकर, टिभी में समाचार देखकर और गांव के अगुवा से कहने पर ही मतदान करते हैं । गांव दुर्गम है, लेकिन पर्यटन, जडिबुटी और पशुपालन के लिए यहां प्रशस्त सम्भावना है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: