“जीवन काँडा कि फूल” , पुस्तक आज से हिन्दी भाषा में उपलब्ध ।

“जीवन काँडा कि फूल” , पुस्तक आज से हिन्दी भाषा में उपलब्ध ।

५ जुलाई, काठमाण्डू, मालिनी मिश्र ।

साहित्यकार झमक घिमिरे की मदन पुरस्कार प्राप्त आत्मकथा जीवन काँडा कि फूल का हिन्दी संस्करण आज से बाजार में उपलब्ध होगी । नेशनल बुक ट्रस्ट इन्डिया ने हिन्दी संस्करण का प्रकाशन किया है । प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली इस पुस्तक का विमोचन करेंगे । नेपाली भाषा में लिखी इस पुस्तक का हिन्दी भाषा में अनुवाद सिक्किम के सी. पी. गिरी नें किया है । इसके साथ ही लिखे हुए आत्मकथा से संबंधित गीत के कैसेट को भी सार्वजनिक किया जाएगा । मदन पुरस्कार से सम्मानित यह कृति जीवन के दुख व संघर्ष को प्रदर्शित करने वाली है ।

Loading...