जो जमानत नहीं बचा पाए

किसी न किसी तरह मधेश राजनीति में चर्चा में रहने वाले कुछ नेता इस निर्वाचन में बुरी तरह पराजित हुए हैं। पार्टर्ीीे अध्यक्ष, उपाध्याक्ष, महासचिव, सचिव, कोषाध्याक्ष आदि पद में रहनेवाले और बार-बार मन्त्री पद को सुशोभित करनेवाले महोदयों की जमानत भी जफत हर्ुइ है। जमानत बचाने के लिए अपने क्षेत्र में मतदान हुए कुल सदर मत का न्यूनतम १० प्रतिशत मत प्राप्त करना कानूनी रूप से जरूरी था। इस प्रकार अपनी जमानत को बचाने में असफल रहे पर्ूव उपप्रधान तथा वनमन्त्री बद्रीप्रसाद मण्डल से पर्ूव राज्यमन्त्री एवं संघीय समाजवादी के उपाध्यक्ष मुहम्मद रिजवान अन्सारी, पर्ूवमन्त्री तथा फोरम लोकतान्त्रिक के उपाध्यक्ष दानबहादुर चौधरी, नेपाल सद्भावना पार्टर्ीीध्यक्ष तथा पर्ूवमन्त्री सरिता गिरी तथा पर्ूवमन्त्री बद्रीप्रसाद न्यौपाने आदि हैं।

ca election under vote count

जो जमानत नहीं बचा पाए

सद्भावना पार्टर्ीीे नेता बद्रीप्रसाद मण्डल मोरङ क्षेत्र नं. ४ और ५ में उम्मेदवार थे। दोनों जगहों में उनकी जमान जफ्त हर्ुइ। क्षेत्र नं. ४ में कुल सदर ३८४७५ मत में मण्डल ने सिर्फ४३३ मत तथा क्षेत्र नं. ५ में कुल सदर मत ४१२०९ में सिर्फ१११२ मत प्राप्त किया है। उसी तरह सदभावना के ही महासचिव सरोज यादव बारा क्षेत्र नं. १ में उम्मेदवार थे। उनकी भी जमानत जफत हर्ुइ है। कुल सदर मत ३९९४९ में उन को सिर्फ३७७७ मत प्राप्त हुए। स्मरणीय है- यादव ने इससे पहलेवाले चुनाव इसी क्षेत्र से जित कर राज्यमन्त्री तक बनने का सौभाग्य प्राप्त किया था।

उसी तरह र्सलाही क्षेत्र नं. २ और ४ में संघीय समाजवादी पार्टर्ीीी उम्मेदवारी देनेवाले मुहम्मद रिजवान अन्सारी भी दोनों क्षेत्र में अपनी जमानत नहीं बचा सके। क्षेत्र नं. २ में सदर मत ४१३७९ में उनको प्राप्त हुआ- २२८२ मत। उसी तरह र्सलाही क्षेत्र नं. २ में चुरे भावर राष्ट्रीय एकता पार्टर्ीीे अध्यक्ष तथा पर्ूवमन्त्री बद्रीप्रसाद न्यौपाने अपनी जमानत नहीं बचा सके। उनको सदर मत ४१३७९ में से सिर्फ१३६५ मत प्राप्त हुए। उसीतरह राष्ट्रिय मधेश समाजवादी पार्टर्ीीें नवप्रवेशी पर्ूवप्रहरी महानिरीक्षक प्रदीप शमशेर जबरा भी रौतहट क्षेत्र नं. ४ में अपनी जमानत नहीं बचा सके।

वहाँ कुल सदर मत ३७४७१ में उनको सिर्फ२७६० मत प्राप्त हुए। उसी तरह राष्ट्रीय मधेश समाजवादी पार्टर्ीीे उपाध्यक्ष ओमप्रकाश यादव और नीलम बर्मा भी अपनी जमानत नहीं बचा सकीं। रूपन्देही क्षेत्र नं. ६ के उम्मेदवार ओमप्रकाश यादव ने ३८३७७ में ७०९ और रौतहट १ की उम्मेदवार नीलम बर्मा ने कुल सदर मत ३३९९६ में १०२ मत प्राप्त किया। उसी पार्टर्ीीे सचिव कौशल यादव भी महोत्तरी ५ में अपनी जमानत नहीं बचा सके। रौतहट क्षेत्र नं. १ में सद्भावना के केन्द्रीय सदस्य योगेन्द्र यादव और पहले निर्वाचन में इसी क्षेत्र से चुनाव जितने वाले स्वतन्त्र उम्मेदवार बबन सिंह की भी जमानत जफ्त हर्ुइ है। यादव ने कुल ३३९९६ में १६५८ मत प्राप्त किया। इस बार फोरम नेपाल से लडÞनेवाले सिंह ने सिर्फ१४८१ मत प्राप्त किया।

रौतहट क्षेत्र नं. २ में सद्भावना के उपाध्यक्ष अब्दुल जब्बार की भी जमानत जफ्त हर्ुइ है। उनको कुल ३३३२८ मत में सिर्फ७०८ मत मिले हैं। तर्राई मधेस सद् भावना पार्टर्ीीतमसपा) के दो उपाध्यक्ष की भी जमानत जफ्त हर्ुइ है। र्सलाही क्षेत्र नं. ५ में उपाध्यक्ष खोभारीराय यादव ने कुल ४२८१५ मतों में ३८७५ मत प्राप्त किया। र ाय इससे पहले वाले निर्वाचन में इसी क्षेत्र से विजयी हुए थे और राज्यमन्त्री तक हुए थे। उसी तरह दूसरे उपाध्यक्ष तथा पर्ूवसभासद् अलाउद्दीन अन्सारी को नवलरासी क्षेत्र नं. ५ में कुल ४०८९३ मतों में सिर्फ१४३३ मत प्राप्त हुए और उनकी जमान जफ्त हर्ुइ।

सप्तरी क्षेत्र नं. ३ में पहली बार सद्भावना से चुनाव जितने वाले, लेकिन इसबार तमसपा से उम्मेदवार रहे महेशप्रसाद यादव को कुल सदर मत ३५६४१ में से र्सर्फ४५ मिले और इसतरह इनकी भी जमानत जफ्त हर्ुइ। उसी तरह सप्तरी क्षेत्र नं. ४ में फो म नेपाल की कोषाध्यक्ष पर्ूवमन्त्री रेणु यादव और नेत्री पुष्पा ठाकुर भी अपनी जमानत नहीं बचा पाईं।

पहले इसी क्षेत्र से चुनाव जीत कर मन्त्री बनने वाली रेणु यादव ने कुल सदर मत ३६७८३ में से सिर्फ३००७ और पुष्पा ठाकुर ने १००५ मत प्राप्त किया। धनुषा क्षेत्र नं. ४ के उम्मेदवार तथा तमलोपा उपाध्यक्ष वृषेशचन्द्र लाल ने कुल सदर मत ३५७७१ कें से सिर्फ२६५० मत प्राप्त किया।

और इस तरह उनकी भी जमानत जफ्त हर्ुइ। नेपाल सद्भावना पार्टर्ीीध्यक्ष सरिता गिरी ने पर्सर्ााजला क्षेत्र नं. १ में कुल सदर मत ३७७३६ में सिर्फ२६६ मत प्राप्त किया। इसी क्षेत्र में फोरम नेपाल की ओर से चुनाव लडने वाली पर्ूवराज्य मन्त्री करिमा बेगम की भी जमानत जफ्त हर्ुइ है। अगली बार इसी क्षेत्र से विजयी होकर मन्त्री बननेवाली बेगम को सिर्फ१०९२ मत प्राप्त हुआ।

पर्सर्ााोत्र नं. २ में फोरम गणतान्त्रिक महासचिव शशिकपूर मियाँ की जमानत भी जफत हर्ुइ है। कुल सदर मत ३८०८३ में से उन को सिर्फ २३०६ मत प्राप्त हुए। उसी तरह फोरम नेपाल के केन्द्रीय सदस् य खालिद हुसैन हक भी सुनसरी क्षेत्र नं. ४ में अपनी जमानत गंवा बैठे। कुल सदर मत ४३३१८ में उन को सिर्फ३५८५ मत प्राप्त हुए। उसी तरह रूपन्देही क्षेत्र नं. ६ में सद्भावना के उपाध्यक्ष ओमप्रकाश यादव गुल्जारी की भी जमानत जफ्त हर्ुइ है। वहाँ कुल सदर मत ३८३७७ में उनको सिर्फ७८५ मत मिले हैं। अगले चुनाव में वे फोरम नेपाल की तरफ से रूपन्देही क्षेत्र नं. २ से चुनाव जीतकर राज्यमन्त्री हुए थे। उसीतरह कपिलवस्तु क्षेत्र नं. २ में फोरम लोकतान्त्रिक के उपाध्यक्ष दानबहादुर चौधर ी कर्ुर्मी की भी जमानत जफ्त हर्ुइ है। वहाँ कुल सदर मत ३२५७३ में से अगली बार तमलोपा से इसी क्षेत्र से जीतकर मन्त्री बननेवाले चौधरी को २३५० मत प्राप्त हुए हंै।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz