टंक तिमील्सेना के गायन हुनर

सफलता की दरवाजा खोलने के लियें मेहनत करना एकदम आवश्यक है इस बातों को लोक गायक  ने एकदम क्लियर कर दिया है ।
pawan jaswalलोक गायक टंक तिमिल्सेना  अच्छे स्वभाव के है अभी और पिछले समय में ज्यादा चर्चा में आयें हुयें है कारण क्या है उन की परिश्रम । कम समय में अभी केवल १९ वर्ष के पहुचें टंक तिमिल्सेना ने १७ वर्ष के उमेर से ही गायन यात्रा शुरु किया और अभी एकदम चर्चा  चल रहा है ।
उन्हों ने यह २ वर्ष के अन्तराल में ज्यादा गीत  गा चुकें है , अछाम जिला घर होकर भी कर्मस्थल काठमाण्डौं में बनायें हुयें तिमिल्सेना ने अभी तक २ दर्जन से अधिक गीत गा चुके है, जो एकदम चर्चा में भी आया है वो मध्ये अभी “सन्सनी सन्सनी यो मुटु खाईरहने, त्यही भएर म सुर्खेत आईरहेन, गीत के साथ जूनी जूनी तिमीलाई माया गर्छु, धनकै मातमा मत्तिनेलाई के थाहा, धेरै रोए अब रुन्न म, जब तिम्रो लगन पक्का भो” लगायत की गीतें सफलता हासिल कर चुके है । उन्हों ने कहा हम करनेवाला काम की सफलता में हम मात्र नहोकर हमारे मित्र साथी भाई और हम को एकदम समझने वाले सभी दर्शक और स्रोता की भी उतना ही हाथ रही है और यह प्रेम, स्नेह से ही मैं आकाश छुनें की सपना पूरा किया ह“ू इस लियें हम को ही समझकर साथ देनेंवाले और देने के लियें भी आग्रह किया है ।

लोक गायकों की छबि बनायें टंक तिमिल्सेना ने लोक दोहोरी गीत मात्र नहोकर आधुनिक गीतों में लिखना और संगीत देतें रहें है । उन की शब्द और संगीत रहा छोडि जानु रैछ तिमीले बेर्थै माया लगाएछु जैसे अन्जु पन्त की आवाज में रही गीत ने ज्यादा ही चर्चा में आया । इस के साथ इसी गीत को मेल भर्सन में नेपालगन्ज उप– महानगरपालिका–१६ के निवासी प्रमोद डिजी ने अपनी आवाज भरा है । नेपालगन्ज में लम्बें समय तक रेडियाकर्मी के रुप में काम कियें हुयें टंक तिमील्सेना ने अपना पढ्ते क्रम में ही रेडियो और पढाई दोनों मे ध्यान देते रहते थे अभी तो गायन क्षेत्र में लग गयें है तो भी संगीत क्षेत्र के साथ साथ पढाई को भी समय देते आ रहे है । इस बार मात्र तीज्। के अवसर पर बाजार में ४ गीतें ला चुकें है वो मध्ये एक गीत में उन की शब्द और लय रहा गीत छोरो पाउने कहिले गीत में ८ लोग ज्यादा ही चर्चा में आयें है । इस में कलाकरों ने आवाज दियें है खुमन अधिकारी, देवी घर्ती, टीका पुन, कृष्ण बजुरेली, सीमा सुनार, राजु ढकाल, टंक तिमिल्सेना ने स्वयं आवाज दियें है और यह बिल्कुल नई पारा की गीत रही है जहा“ पर स्रोता और दर्शकों की मन जीते हुयें कलाकारों की एक ही गीत में आवाज सुनना आवश्य ही उन के फ्याननें को एक खुशी दिलायें गा । कोई भी चीज में सफलता पाना मेहनत की आवश्यकता पडती है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: