ठंड में बढ़ाव होने के बावजूद भी डेंगु के संक्रमण में कमी नहीं दिखी

विनोद विश्वकर्मा विमल, काठमांडू, 19 नवम्बर |

जिस रफ्तार से ठंड में भी डेंगु फैल रहा है, वह स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा बनकर उभरा है । लगभग ७०० लोगों के फिलहाल इसकी चपेट में आने की खबर है । इनमें से ५५४ मामले चितवन से, ६० झापा से और बाकी काठमान्डू घाटी से सामने आए हैं ।

जिला जनस्वास्थ्य कार्यालय चितवन के भेक्टर कन्ट्रोल निरीक्षक राजकुमार के.सी के अनुसार चितवन में डेंगु सन् २०१० से ही संक्रमण के रूप में देखा गया है । चितवन में आ.व.२०६७÷०६८ में ५ लोगों की मौत और ७३९लोग प्रभावित हुए । आ.व.०६८÷०६९ में १ की मौत और ६८ लोग प्रभावित, आ.व.०६९÷में ५२, आ.व.२०६० में ३७१, आ.व.२०७१÷०७२में ११९ और आ.व.२०७२÷०७३ में ८५ लोग डेंगु से प्रभावित हुए । इसी प्रकार आ.व.२०७३÷०७४ में भाद्र से लेकर कार्तिक माह तक ५५४ लोग संक्रमित हुए हैं ।

jan-swasth-chitwan

बहरहाल चितवन, झापा व काठमान्डू जिलों के स्वास्थ्यकर्मी के लिए खतरे की घंटी बज चुकी है, क्योंकि वे अब तक इस पर काबू पाने में विफल रहे हैं । अमूमन यह बिमारी तराई जैसे अपेक्षाकृत गरम इलाकों में फैलती रही है, लेकिन अब इसका प्रकोप काठमान्डू जैसे ठन्डे क्षेत्रों में भी दिख रहा है । धनी आबादी, गंदी क्षेत्रों में रहने की मजबूरी और बड़ी संख्या में लोगों की ठंडे से गरम इलाकों में आवाजाही इसकी मूल वजह है । यह रोग एडिस एजिप्ट मच्छर के काटने से होता है । मच्छरजनित रोगों की गम्भीरता का संज्ञान लेते हुए स्वास्थ्य सेवाओं के एफिडेमियोलाजी एंड डिजीज कंट्रोल डिविजन ने झापा व चितवन जिलों में तीन मेडिकल टीमों को रवाना किया है । एक टीम पहले ही झापा में सक्रिय हो चुकी है, बीपी कोईराला इंस्टीच्यूट ऑफहेल्थ सर्विसेज के स्वास्थ्इकर्मी भी इस कार्य में जुटे हैं । एक अन्य टीम डेंगु से बुरी तरह प्रभावित चितवन जिले में काम कर रही है ।

इस रोग को काबू में करने के र्लि सघन और व्यापक अभियान की जरुरत है । तेज बुखार, सिरदर्द, आँखों में दर्द और लाल चकते इस रोग के खास लक्षण हैं । बहरहाल, ये मेडिकल टीम डेंगु के लार्वा की तलाश करने और उसे नष्ट करने के साथ साथ लोगों में जागरुकता फैलाने का काम भी करेगी । तमाम स्वास्थ्यकर्मियों, महिला सामुदायिक स्वास्थ्य सेविकाओं, शिक्षकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं को जनजागरण के अभियान से जोड़ा जा रहा है । अगर प्रभावित जिलों में डेंगु को काबू में करने के एहतियात कदम तत्काल नहीं उठाए नहीं उठाए गए, तो यह रोग महामारी की शक्ल ले सकता है । अनुमान है कि हजारों लोग डेंगु से प्रभावित हो सकते हैं और उनका वक्त पर ख्याल नहीं रखा गया, तो उनकी मौत भी हो सकती है । ऐसी स्थिति में स्वास्थ्य विभाग के कार्यकर्ताओं को वब्त रहते सतर्क हो जाना चाहिए, इससे पहले कि बहुत देर हो जाय ।

Leave a Reply

1 Comment on "ठंड में बढ़ाव होने के बावजूद भी डेंगु के संक्रमण में कमी नहीं दिखी"

avatar
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
DrArun
Guest

today also one patient diagnosed NS1Dengue in Bpkihs

%d bloggers like this: