तरलता संकट की मार में लगानी व सेयर बाजार

share-marketकाठमांडू, ७ दिसम्बर ।
पिछले समय वाणिज्य बैंकों के साथ तरलता की कमी होने के कारण नये क्षेत्र में लगानी करने में दिक्कत होने की बात बैंकरों ने बताया ।
वाणिज्य बैंकों की तरलता का निक्षेप अनुपात (सिडी रेसियो) ८० भाग २० होने चाहिये एसा केन्द्रीय बैंको की प्रावधान रही है । अधिकांश की सो अनुपात सीमा में पहुँचने के कारण अतिरिक्त लगानी करने की अवस्था न होने की सिकायत बैंकरो ने किया ।
बैंक के पास रही तरलता के कुल ८० प्रतिशत मात्र लगानी कर पाता है, बाँकी ढुकुटी में रखना होता है ।
सिभिल बैंक ने बताया मुद्रा बाजार में तरलता संकट बढने की बजह से अतिरिक्त लगानी करने का रकम न होने के कारण लगानी नही करपाने की अवस्था  है । कर्जा के मांग होते हुए भी लगानी नहीं कर पा रहें हैं ।
लगानीकर्ता बताते हेंै, पिछले समय बाजार में दिख रही तरलता की संकट बढने के बाद बैंको ने सेयर धितो कर्जा में लगानी न कर पाने की वजह से बाजार घट गई है । फिलहाल सेयर बाजार घटने का प्रमुख कारण भी तरलता संकट होने की बताते हैं लगानीकर्ता ।
loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz