मुस्लिम समुदाय में प्रचलित तीन तलाक प्रथा के खिलाफ भारत में अदालत का दरवाजा खटखटाने वाली इशरत जहां भाजपा में शामिल हो गई हैं. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार उन्हें बीते शनिवार को पश्चिम बंगाल में भाजपा की हावड़ा इकाई में शामिल किया गया. इसकी पुष्टि करते हुए इशरत जहां ने कहा, ‘मोदी जी ने पीड़ित महिलाओं के लिए क्रांतिकारी कानून बनाया है. मैं बहुत खुश हूं. मैं पार्टी की महिला विंग के साथ काम करूंगी.’

पश्चिम बंगाल के हावड़ा की रहने वाली इशरत जहां सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक प्रथा को चुनौती देने वाली याचिकाकर्ताओं में शामिल थीं. इशरत जहां को दुबई में रहने वाले उसके पति ने 2014 में फोन पर तीन बार तलाक कहकर तलाक दे दिया था. अगस्त में ऐसी ही पांच याचिकाओं पर सुनवाई करने के बाद शीर्ष अदालत ने तीन तलाक को ‘असंवैधानिक’ और ‘मुस्लिम महिलाओं के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन’ बताया था और इसे रद्द कर दिया था.

बीते हफ्ते भाजपानीत केंद्र की एनडीए सरकार ने तीन तलाक को अपराध घोषित करने वाला मुस्लिम महिला (वैवाहिक अधिकार संरक्षण) विधेयक – 2017 को संसद में पेश किया है. इसे लोकसभा की मंजूरी भी मिल चुकी है. अब राज्यसभा से पारित होना है. इस विधेयक में मौखिक, लिखित, वॉट्सएप, ईमेल, एसएमएस और अन्य सभी तरीके से तीन तलाक देने को अपराध घोषित किया गया है. इसके लिए तीन साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान किया गया है.