Wed. Sep 26th, 2018

तीन दिनों तक विशेष कार्यक्रम कर गणतन्त्र दिवस मनाने लिए हुवा निर्णय


हिमालिनी डेस्क
काठमांडू, १९ मई ।
गणतंत्र दिवस मूल समारोह समिति की बैठक ने इसी जेठ के १४, १५ और १६ गते तीन दिनों तक विशेष कार्यक्रमों का आयोजन कर गणतंत्र दिवस मनाने का निर्णय किया है ।
प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की अध्यक्षता में गृहमंत्रालय में बुलाई गई बैठक ने गणतंत्र दिवस के मौके पर देश में और विदेशों में स्थित दूतावासों और नियोगों में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करने का निर्णय किया ।
बैठक में प्रधानमंत्री ओली ने कहा कि जनता के त्याग और बलिदान से प्राप्त गणतंत्र दिवस सिर्फ सरकार का ही नहीं, बल्कि राष्ट्र का है इसलिए इसे जनता और सरकार दोनों की ओर मनाया जाना चाहिए ।
गणतंत्र दिवस के मौके पर रेडियो नेपाल और नेपाल टेलीविजन समेत संचारमाध्यमों से गणतंत्र के विषय पर परिसंवाद कार्यक्रमों का संचालन किए जाने के साथ साथ टुँडिखेल में आयोजित होने वाले कार्यक्रम का लाइव प्रसारण करेंगे ।
इसीतरहा, प्रतिनिधिसभा की बैठक में सभामुख कृष्णबहादुर महरा ने सांसदों द्वारा उठाएगए राष्ट्रिय महत्व के विषयों पर सरकार का ध्यानाकर्षण कराया ।
सभामुख महरा ने देश में महिला हिंसा में बढ़ोतरी, बाढ़ और भूकम्प पीडितों को उचित राहत मुहैया कराने लगायत विषयों पर सांसदों ने सरकार का ध्यानाकर्षण कराया ।
सांसदों की मागों को गम्भीरता से लेते हुए इसके क्रियान्वयन के लिए सभामुख महरा ने सरकार का ध्यानाकर्षण कराया ।

इसीतरहा, प्रतिनिधिसभा की बैठक में सार्वजनिक सुरक्षा तिसरा संशोधन विधेयक २०७५ के प्रस्ताव को सर्वसम्मति से स्कीकृत किया गया ।
गृहमंत्री रामबहादुर थापा ने बैठक में विधेयक प्रस्तुत किया था । प्रतिनिधिसभा की अगली बैठक जेठ ७ गते सोमवार के लिए बुलाई गई हैं ।
इसीतरहा, राष्ट्रिय सभा की आज की बैठक के विशेष समय में सांसदों ने विकास निर्माण समेत समसामयीक बिषयों पर सरकार का ध्यानाकर्षण कराया ।
सांसद रामप्रित पासवान ने कहा सीमा अतिक्रमण के कारण सीमा क्षेत्र के लोगों को समस्या का सामना करना पड़ रहा हैं । सांसद बलरामप्रसाद बाँस्कोटा ने त्रिभुवन अन्तराष्ट्रिय विमान स्थल से हुई सोने की तस्करी के संबंध में सदन को जानकारी करवाने की माँग की । इसीतरह, अलग अलग सांसदों ने देश के समसामयीक विषयों पर सरकार का ध्यानाकर्षण कराया ।

अख्तियार दुरुपयोग अनुसन्धान आयोग ने आयुर्वेद चिकित्सालय नरदेवी के निमित्त निर्देशक डॉ. रामदेव यादव के विरुद्ध विशेष अदालत में मुकदमा दर्ज किया हैं ।
आयोग के मुताबिक निमित्त निर्देशक डॉ. यादव ने आयुर्वेद स्वास्थ्य सहायक तीसरे वर्ष में अध्ययनरत छात्र को प्रशिक्षण में शामिल करने के लिए ३७ हजÞार रुपए की रिस्वत ली थी ।आयोग ने उनसे क्लेम्ड अमाउन्ट भरवाने के साथ साथ उन्हें ४ साल कैद की सजा देने की माँग की है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of