तेरे महफिल से उठ के दिवाने कहाँ जाते : विजेता चौधरी

विजेता चौधरी, काठमांडू, कार्तिक २ । छुटिटयों के बाद गुलजार काठमांडू
मेला उठजाने के बाद उजाड मैदान सी नजर आति काठमांडू फिर से गुलजार हो रही है ।

petrol-pamp-pic
दशहारे की लम्बी छुटिटयों में काठमांडू से अपने गाव घर लौटे लोग पुनः वापस आने लगें हैं । बसों व गाडीयों के हर्न ने फिर से एक बार शहर बासियों की निन्दें उडाने लगी है । तो लगता है जैसे काठमांडू जीवंत हो उठी है ।
सडको पर लोगों की भीड बढने लगी है । तो वहीं ट्राफिक जाम ने भी अपना जलबा दिखाते हुए मानो जैसे भीढ बढने की संकेत कर रही है । आफिस कल कार्यालय, स्कुल कालेज फिर से खुलने लगी है । बंद दुकानो पर ग्राहकों की चहलपहल है ।
दशहारे में काठमांडू की लगभग आधी से अधिक आवादी अपने गाउ लौट जाती हैं तो कइ लोग छुटिटयों का आनंद उठाने के लिए यात्रा पर निकल जाते हैं । फिर एक चौथाइ लोगों के साथ राजधानी काठमांडू विराने सी उदासी लिए रहती है ।
स्कुल, अफिस, दुकान, बाजार मानो चलते चलते अचानक सब ठप्प हो जाती है । सारा कुछ ठहरा हुवा सा नजर आता है । फिर हप्ते दश दिन की छुटिटयों के बाद वापस आते यात्रियों व लोगों के साथ उदास काठमांडू जीवंत हो उठती है ।
काठमांडू में बसे पच्हत्तर जिले के लोगा फिर से अपने आशा की नगरी जैसे लौटने लगें हैं वैसे ही उन के संसर्ग को आदी हो चुका राजधानी चहचहाने गी है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz