Fri. Sep 21st, 2018

त्याग और बलिदान सबसे उपर होता है जो रामराजा प्रसाद मे था —

जनकपुर । गण्तन्त्र स्थापना मे स्व रामराजा प्रसाद सिंह का योगदान नेपाल की जनता कभी नही भुलेगी, उनका जिवन नेपाल की जनता के लिये समर्पित था ऐसा विचार जनकपुर के वक्ताओं ने वयक्त किया । सिंह के १३ वां दिन के पुण्य तिथि के अवसर पर जनक चौक पर आयोजित श्रद्धाञ्जलि सभा मे सहभागी वक्ताओं ने उनकी आत्मा की चिरशान्ति की कामना करते  देश के सभी जगहो पर उनकी प्रतिमा निर्माण के लिए सरकार से अपील भी की है । कार्यक्रम मे एकीकृत नेकपा माओवादी के धनुषा जिला इन्जार्च रामचन्द्र मण्डल ने कहा की लोकतन्त्र मे सबसे अधिक योगदान देने वाले नेताओं मे रामराजा प्रसाद सिंह का नाम आता है लेकिन इतना योगदान देने के वावजुद भी राजनीतिक क्षेत्र मे उन्हे कोर्इ पद नही मिला जो बहुत ही दु:ख की बात है । उन्होने कहाँ कि हम लागो को इससे सिखना हो कि त्याग बहुत बडी चीज होती है ।नेपाल राष्ट्रीय बुद्धिजीवी संगठन धनुषा के संयोजक उमेश चौधरी के सभापतित्व मे हुआ कार्यक्रम मे वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार राजेश्वर नेपाली ने उनका जीवन पर चर्चा करते हुए कहा कि देश के सच्चे पहरेदार के लिए त्याग और बलिदान सबसे उपर होता है जो रामराजा प्रसाद मे था । उनका योगदान से अभी सिख्ने कि आवश्यकता है ।श्रद्धाञ्जलि सभा मे नेपाल पत्रकार महासंघ धनुषा के अध्यक्ष रामअशिष यादव, प्राध्यापक किशोरी नायक, गुजलार राउत, बालकेश्वर ठाकुर, अशेश्वर गोइत, जनकपुर उद्योग वाण्ज्य संघ के पूर्व अध्यक्ष प्रकाशचन्द्र साह, समाजसेवी मदन जैन, माओवादी नेता असर्फी भिनवार यादव सहित के वक्ताओं स्वर्गिय सिंह के प्रति श्रद्धाञ्जली अर्पण की ।कैलास दास।
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of