त्रिभुवन विश्वविद्यालय कई विभागाें काे बंद करने की तैयारी मे‌ं

२१ अप्रैल

त्रिभुवन विश्वविद्यालय, देश की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी विश्वविद्यालय, उन विभागों को बंद करने की तैयारी कर रही है जिनमें १० से कम छात्र हैं। यह निर्णय वर्षों से विभिन्न विभागों में छात्र संख्याओं में लगातार गिरावट से प्रेरित हाेकर लिया जा रहा है।

टीयू के केंद्रीय परिसर और घटक कॉलेजों में नामांकन आंकड़े गिर रहे हैं, भले ही विश्वविद्यालय ने शिक्षण सीखने की गतिविधियों में सुधार और शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ावा देने के लिए कुछ साल पहले सेमेस्टर सिस्टम अपनाया था पर इसका परिणाम सकारात्मक नहीं दिख रहा है ।

रेक्टर सुधा त्रिपाठी ने कहा कि संकाय सदस्यों के छात्रों की संख्या  कक्षाओं को चलाने के लिए पर्याप्त नहीं है ।

“कुछ कार्यक्रम पहले ही बंद कर दिए गए हैं,” उन्हाेंने कहा। टीयू ने राजधानी में त्रिचंद्र कॉलेज में नेपाली कार्यक्रम को रोक दिया है, जबकि केंद्रीय परिसर में इतिहास विभाग, जिसमें केवल एक छात्र है, को बंद कर दिया गया है। विश्वविद्यालय में रिकॉर्ड्स से पता चलता है कि उर्दू, नेवारी, गृह विज्ञान, संस्कृति, हिंदी, मनोविज्ञान और संस्कृत के विभागों में नामांकन दर पिछले कुछ वर्षों में गिर गई है। इन विभागों में शिक्षकों की तुलना में कम छात्र हैं।

ऐसे कार्यक्रम या तो घटक कॉलेजों या केंद्रीय परिसर में चलाए जाते हैं। विश्वविद्यालय के किर्तिपुर परिसर में 22 विभाग हैं जबकि कुल विभागों में घटक कॉलेजों  १५७  शामिल हैं। दवा और इंजीनियरिंग जैसे तकनीकी पाठ्यक्रमों में गैर-तकनीकी विषयों की तुलना में विभागों की संख्या अधिक है।

यूनिवर्सिटी अनुदान आयोग के रिकॉर्ड्स, सरकार की इकाई जो देश में विश्वविद्यालय शिक्षा की देखरेख करती है, दिखाती है कि सबसे पुराना विश्वविद्यालय धीरे-धीरे छात्रों को वर्षों से अन्य विश्वविद्यालयों में जा रहा है। २००७ में, कुल विश्वविद्यालय के छात्रों में, ९० प्रतिशत ने टीयू में अध्ययन किया। २०१६ में शेयर ७८ प्रतिशत तक गिर गया, जबकि काठमांडू विश्वविद्यालय में प्रवेश इसी अवधि के दौरान १‍.९ से ४.६२ प्रतिशत हो गया। पोखरा विश्वविद्यालय में, आंकड़े नौ साल की अवधि में लगभग २.४ प्रतिशत से ७.२ प्रतिशत तक पहुंच गया है।

काठमान्डाै पाेस्ट से

 

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: