दशहरामय जनकपुर

कैलास दास:जनकपुर में विजया दशमी समारोह जिस तरह से मनाया जाता है, शायद ही नेपाल के किसी दूसरे स्थान में इस तरह मनाया जाता होगा। घटस्थापना से लेकर दशमी तक जनकपुर नगरी धर्ममय बनी रहती है। अभी जनकपुर नव दुलहिन की तरह सजी है। चौक चौराहे पर आकर्ष पण्डाल बने हैं तो शक्तिपीठ मन्दिरों को आकर्ष ढंगसे विद्युतीय डेकोरेशन किया गया है।devi-durga-wallpapers-janakpur_himalini
जनकपुर ने नेपाल की साँस्कृतिक राजधानी के रूप में अपनी पहचान बनाई है। और इसमें युवा क्लवों की भूमिका बहुत बडÞी है। विजया दशमी तथा छठ पर्व में एक महीना पहिले से युवा कमिटी के सदस्य सरसफाई तथा मन्दिरों के सजावट में लगे रहते हैं।
राजा जनक के गृह देवी के रूप में पूजित राजदेवी मन्दिर, अमरखाना देवी, बौधीमाई, पियरियामाई, देवीचौक स्थित राजदेवी मन्दिर, कदम चौक का सोना माई सहित शक्तिपीठ मन्दिर हो वा  विद्यापति चौक, रामानन्द चौक, पुल चौक में निर्मित दर्ुगा प्रतिमा, भक्तजनो को अपनी ओर आकषिर्त करने के साथ ही भक्तिगानों से श्रद्धालुओं को झुमा देती है। उसी तरह ग्रामीण क्षेत्र में भी भव्य रूप से विजया दशमी मनाया जाता है। सबैला, रघुनाथपुर, पोर्ताहा, धनुषाधाम, महेन्द्रनगर में भगवती दर्ुगा की प्रतिमा बना कर विजया दशमी मनाने में होडÞबाजी करते हैं। धनुषा करिब एक करोड से ज्यादा की राशि विजया दशमी में खर्च की जाती है।
इस अवसर पर जनकपुर का विजया दशमी मेला देखने के लिए बिहार के सीमावर्ती क्षेत्रों से और नेपाल के बहुत सारे जिलों से श्रद्धालु भक्तजन आते हैं। खासकर राजदेवी मन्दिर, राम मन्दिर सहित के शक्तिपीठ मन्दिरों में भजन संध्या कार्यक्रम में हजारों की सख्या में श्रद्धालु उपस्थित होतें है। यहाँ का झिझिया नृत्य बहुत ही आकषिर्त करता है। झिझिया नृत्य विजया दशमी में ही किया जाता है। डायन के जादू टोने से बचने के लिए यह नृत्य किया जाता है, ऐसी मान्यता है। इस लोक नृत्य की अपनी एक अलग पहचान है और इसके पीछे विविध लोक कथाएं भी प्रचलित हैं।
जनकपुर धार्मिक पर्यटकीय नगर के रूप में प्रसिद्ध है और यहाँ के धार्मिक संरक्षण और सर्म्बर्द्धन में युवाओं के सबसे बडÞी भूमिका है। खास कर कहां जाए तो छठ पूजा, विजया दशमी और विवाह पञ्चमी में युवाओं की विशेष सक्रियता देखी जाती है। राम युवा कमिटी, महावीर युवा कमिटी, रामानन्द युवा क्लव, गणेश युवा कमिटी, विद्यापति युवा क्लव, राजदेवी युवा कमिटी,  धार्मिक साँस्कृति को बचाने और उजागर करने के लिए प्रसिद्ध हैं।
जनकपुर में विजया दशमी, छठ पर्व, गृह परिक्रमा, विवाह पञ्चमी सहित के पर्वाें में पाँच लाख से ज्यादा संख्या में दर्शनार्थी भक्तजन दूर दूर से आते हैं। परन्तु सरकार व्यवस्थापन से अभी भी कोसों दूर है। महावीर युवा कमिटी के महासचिव प्रदीप भगत के अनुसार वे विजया दशमी में एक महीना तक घर एवं अपना व्यवसाय छोडÞ कर इसी की तैयारी लगे रहते हैं। घर परिवार से भी ज्यादा दायित्व राजदेवी माँ की पूजा एवं व्यवस्थापन का हो जाता है। उसी तरह राम युवा कमिटी के अध्यक्ष रामबाबु कहते हैं- जनकपुर में विजया दशमी आदिकाल से ही प्रसिद्ध है। पूजा व्यवस्थापन में सभी साथियों का सहयोग बराबर है। मुझे एक साथ लाखों व्यक्ति की सेवा करने में बहुत आनन्द मिलता है।
सस्ता बाजार -दशहरा मेला)
जनकपुर का सस्ता बाजार -दशहरा मेला भी प्रसिद्ध है। जनकपुर उद्योग वाणिज्य संघ की अगुवाई और जिला प्रशासन के संयोजकत्व में प्रत्येक वर्षआयोजित इस बाजार में नेपाल तथा भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों से उपभोक्ता खरीद-बिक्री करने आते हैं। नेपाल के काठमांडू से लेकर विभिन्न जिला के व्यापारी यहाँ पर स्टाँल लगाते हैं। एक दिन में लगभग चार/पाँच लाख ज्यादा की बिक्री होती है। बाजार की विशेषता यह है कि अन्य दिनों की अपेक्षा विजया दशमी में प्रत्येक उपभोग्य वस्तु का मूल्य सस्ता रहता है। सस्ता बाजार करीब ४५ वषोर्ं से सञ्चालित होते आ रहा है।
पशु बलि
जनकपुर में अष्टमी तिथि के दिन देवी को बलि प्रदान किया जाता है। उससे एक दिन पर्ूव अर्थात् सप्तमी के रोज एक बजे रात से राजदेवी माता को लड्डू के रूप में प्रसाद चढÞाया जाता है। प्रसाद चढाने के लिए करीब तीन किलोमिटर दूर तक श्रद्धालुओं की लाइन लगी रहती है। और अष्टमी तिथि की सन्ध्या ७ बजे माता राजेदवी के पूजा पाठ के बाद बलि प्रदान किया जाता है। सुबह ५ बजे तक बलि प्रदान होता है। राजदेवी माता को लगभग १६ हजार पशुओं की बलि दी जाती है। प्रत्येक वर्षबल्रि्रदान की प्रथा बढÞते ही जा रही है। बल्रि्रदान के बदले लड्डू चाढÞाया जाए इसके लिए ब्रहृम कुमारी राजयोग, गौ संरक्षण मञ्च सहित आधा दर्जन संस्थाओं ने बलि प्रथा के विरोध स्वरूप जनक चौक पर धर्ना देने का काम समय-समय में किया है। इस के वावजूद प्रत्येक वर्षबलि प्रदान करने वालों की संख्या बढÞती जा रही है। िि
ि

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz