दिसंबर तक पूर्वी चंपारण जिला होगा शौच मुक्त

रक्सौल  13 जुलाई// आगामी 21 दिसंबर तक पूरा पूर्वी चंपारण खुले में शौच मुक्त जिला बनेगा। इसी कड़ी में जीविका के सीईओ सह लोहिया स्वच्छ भारत मिशन अभियान के निदेशक बाला मुरुगन डी ने बुधवार को मोतिहारी पहुंच कर डीएम अनुपम कुमार सहित तमाम प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की। राधाकृष्णन भवन में हुई इस बैठक में जीविका के पदाधिकारी भी मौजूद थे। बैठक में 21 दिसंबर के निर्धारित लक्ष्य को शत प्रतिशत पूरा करने के लिए आगामी 2 अक्टूबर तक जिले की 405 में से करीब 200 पंचायतों को हर हाल में खुले में शौच मुक्त बनाने का निर्णय किया गया। बैठक में डीडीसी सुनील कुमार यादव, डीआरडीए डायरेक्टर दुर्गेश कुमार, सभी एसडीओ, जीविका के डीपीएम वरूण कुमार, सभी बीडीओ मौजूद थे। गांधी मैदान में सीएम ने मंच से किया था ऐलान: बीते अप्रैल महीने में सीएम नीतीश कुमार मोतिहारी के गांधी मैदान में आयोजित सत्याग्रह शताब्दी समारोह में शामिल हुये थे। उस दौरान उन्होंने मंच से ऐलान किया था कि चंपारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष केअवसर पर एक साल के भीतर पूरे चंपारण (पूर्वी एवं पश्चिम चंपारण) को एक साथ खुले में शौच मुक्त बनाया जायेगा। पंचायत लेवल पर की गयी है माइक्रो प्लानिंग : पंचायतों को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए माइक्रो प्लानिंग तैयार की गयी है। इसके तहत प्रत्येक पंचायत में एक अफसर नियुक्त हुआ है। वार्ड स्तर पर भी कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गयी है। जीविका की 2.55 लाख महिलाएं जुड़ी हैं अभियान से : जिले को खुले में शौच मुक्त बनाने के अभियान से जीविका की 2 लाख 55 हजार महिलाएं भी जुड़ी हुइंर् हैं। स्वच्छता अभियान के तहत इनके घरों में भी शौचालय बनना है। वहीं ये महिलाएं गांवों में घूम-घूम कर दूसरों को भी शौचालय बनवाने तथा उसके इस्तेमाल के लिए प्रेरित करेंगी।
loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz