दूसरे चरण का विरोध अभियान चलाएगें

० गौ संरक्षण मञ्च नेपाल का मुख्य उद्देश्य क्या है –

अभी तक इसने अपने उद्देश्य अनुरूप कौन-कौन से काम किए हैं – -गौ संरक्षण का मुख्य उद्देश्य गौ माता का संरक्षण, हिन्दू संस्कृति की सुरक्षा, धामिर्क क्षत्रे ा ंे म ंे cow_hindi-magazineआघात पहचँु ान े वाला ंे क े विराधे म ंे आग े आना, समाजिक क्षत्रे ा ंे म ंे काम करना इसका मख्ु य उद्दश्े य ह।ै आरै यह सस्ं था अभी तक इस क्षत्रे म ंे काम भी करती आ रही ह।ै पिछल े तीन वषा र्ंर्ेे े गमर्ी म ंे जनकपरु क े विभिन्न चाकै पर पानी पिलान े का काम करती आ र ही है । जानकी मन्दिर के आसपास सरसफाई, विभिन्न प्रकार के निःशुल्क शिविर सञ्चालन भी किया गया है। धार्मिक-सांस्कृतिक संरक्षण, सामाजिक विकृ ित क े विराधे म ंे गा ै सरं क्षण मञ्च हमशे ा आग े रहा ह।ै ० जनकपुर में बहुत सारी धार्मिक एवं सामाजिक संस्था हैं, उनसे समन्वय करके कोई ऐसा ठोस काम किया गया है जिसमें आप को भरपूर सहयोग मिला हो – – देखिए गौ संरक्षण मञ्च ने अभी तक जो भी काम किया है, वे सभी ठासे काम ही ह।ंै हा,ँ मानता ह ँू कि यहा ँ बहतु सारी धामिर्क एव ं सामाजिक सस्ं थाए ं ह ंै ले िकन मञ्च न े जा े भी काम किया ह ै वह चचार् म ंे रही है। कुछ दिन पहले यहीं के एक उद्योगपति ने पैसे के बल पर कैसिनो खोला था। उसे हमने बन्द करवाया है। उसे बन्द कराने के लिए काठमांडू तक संर्घष्ा करना पडÞा। मठ मन्दिर की जमीन अतिक्रमण करने के विर ाधे म ंे भी यह सस्ं था खलु कर आग े आर्इ ह ै आरै फिलहाल इस क े प्रि त पश्र ासन भी जागरुक ह।ै इन सभी कामा ंे म ंे राम जानकी यवु ा कमीटी, श्री राम युवा कमीटी, गणेश युवा कमीटी, विश्व हिन्दू स्वयं सेवक संघ, विश्व हिन्दु महासंघ, जनक युवा क्लव, ब्रहृम कुमारी राजयोग, हनुमान आराधना सभी ने आन्तरिक रूप से सहयोग किया है।

० गौ संरक्षण मञ्च ने ऐसा भी कोई काम किया है, जिसमें इसे असफलता मिली हो – –

गौ संरक्षण मञ्च ने जो भी काम शुरु किया है, उसे सफल कर के ही छोडÞा है। देखिए किसी भी अभियान का फाइल खोलना आसान है लेकिन उसमे सफलता पाना बहुत मुश्किल। मञ्च एक धार्मिक विश्वास के साथ काम करता है और जब तक सफलता नहीं मिलती है, तब तक दूसरा अभियान हम नहीं चलाते हैं। चाहे उसके लिए जो भी कीमत क्यों न चुकानी पडÞे।

० जानकी मन्दिर के आसपास बडा मकान नहीं बनाने का कानूनी प्रावधान है परन्तु विगत में भी बना है और अभी भी बन रहा है। उसे रोकने में आपका मञ्च क्यों पीछे है – –

जानकी मन्दिर का दसू रा नाम नालै खा ह ै जा े विश्व म ंे विख्यात ह।ै विश्व क े बहतु बड ेÞ धराहे र क े रूप म ंे नपे ाल का जानकी मन्दिर ह।ै जनकपरु जा े विश्व म ंे पख््र यात ह,ै वह इसलिए नही ं कि यहा ँ पर बहतु बडाÞ कलकार खाना है, विश्वविद्यालय है, रोजगारी की अपार संभावना है। इसलिए प्रसिद्ध है कि यहाँ जानकी मन्दिर है। आप यहाँ का विवाह पञ्चमी, परिक्रमा, शिवर ात्री मले ा म ंे दखे त े ह ंै कि दशे विदशे स े बिना बलु ाय े लाखा ंे श्रद्धाल ु आत े ह।ंै और यहाँ व्यवसाय का आधार भी यही है। लेकिन पहले महोत्तरी जिला से निकलने के बाद जानकी मन्दिर का गुम्बद दिखता था, वही अभी जनकपुर के छत से भी नहीं दिखता है। कुछ धनाढ्य व्यक्ति के कारण जनकपुर का अस्तित्व खतर े म ंे ह ै आरै यहा ँ की जनता चपु चाप बठै ी ह।ै हमार े मञ्च न े सबस े पहल े इसक े विराधे म ंे पश्र ासन का े जानकारी दी, उसक े बाद मिडिया, सम्बन्धित कार्यालय, धार्मिक संघ संस्था सभी को सूचित किया गया। अभी निर्माण काम पर्ूण्ा रूप से बन्द है। परन्तु हमारा अभियान अभी खत्म नहीं हुआ है। मञ्च चाहता है कि कानूनी और सामाजिक कुछ आधार होना चाहिए कि अगर फिर से ऐसा गलती हर्ुइ तो यहाँ के समाज अपने स्तर स े उन्ह े सजा द े सक।ंे इस धराहे र का े बचान े क े लिए किसी भी पक्र ार का कदम चलने के लिए मञ्च तैयार है।

० आगे के लिए क्या सोचे हैं – –

मञ्च ने पहले चरण में विरोध कार्यक्रम किया था। अगर इस पर भी प्रशासन का ध्यान नहीं गया तो धार्मिक एवं सामाजिक क्षेत्र में काम कर रही सभी संस्थाओं का संयुक्त बैठक कर दूसरे चरण का अभियान हम लोग चलाएगें, ऐसा हमने सोचा है। J

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: