नारी सक्षम है सब कर सकती है

नारी की दुनिया अब सिर्फ रसोई की दहलीज तक सिमट कर नहीं रह गई है, उसमें देश को चलाने की क्षमता है । कल की नारी और आज की नारी में जमीन आकाश का फर्क है । पुरुष की तरह काम कर सकती है नारी, महिला कह कर हीनता की दृष्टि से देखने का समय अब खत्म हो चुका है और इस भावना को तो अब जड़ से उखाड़ने का समय आ चुका है । नारी को ३३ प्रतिशत नहीं ५० प्रतिशत का अधिकार राज्य से चाहिए उक्त कथन है मकवानपुर उद्योग वाणिज्य संघ कार्यसमिति की सदस्य तथा मकवानपुर उद्योग विकास समिति की महिला सभापति नीलम पाण्डेय का । नीलम पाण्डे के साथ हेटौडा से हिमालिनी के विशेष संवाददाता गोविन्द न्यौपाने जी की बात चीत का सम्पादित अंश—
० समाज में आपका क्या योगदान रहा है ?
– मैंने कई जिम्मेदारियों का निर्वाह बखूबी किया है । महिला विकास समिति की सभापति, लेडी जेसिस सन् २००९ में जिला अध्यक्ष, (जेसीआई)

nilam-pandey

नीलम पाण्डे

नेपाल जेससि की सन् २०१२ की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, वि.सं.२०७० में मकवानपुर वाणिज्य संघ में आरक्षण द्वारा निर्वाचित कार्यसमिति सदस्य, वि.सं. २०७२ मउवा संघ में महिला उद्यमी विकास समिति की महिला सभापति, राष्ट्रीय कला व्यवसायी संघ में जिला अध्यक्ष, महिला लोकहित सेवा केन्द्र की सचिव, एमनेष्टी नेपाल ग्रुप में ६७ की कार्यसमिति की सक्रिय सदस्य जैसे पदों पर रहकर मैंने समाज में एक अहम भूमिका का निर्वाह किया है ।
० आप अपनी शिक्षा पूरी नहीं कर पाईं क्यों ?
– ठाकुरराम बहुमुखी कैम्पस से मैंने आइएड किया तत्पश्चात् बीएड करने के क्रम में शादी हो गई । इसके बाद पढ़ाई पूरी नहीं हो पाई । और अब आगे पढ़ने का इरादा भी नहीं है, समाज सेवा ही मेरी पढ़ाई है ।
० एक साथ कई जिम्मेदारियाँ आपके ऊपर है ऐसे में घर के लिए कैसे समय निकाल पाती हैं ?
– घर किसका नहीं होता है ? आपसी सामंजस्य से सब सम्भव है । बेटा इंजीनियरिंग कर रहा है पति सफल व्यवसायी हैं और एक अच्छे सहयोगी भी । हम अपना काम बाँटते हैं और मिलजुलकर काम करते हैं । यही कारण है कि घर में किसी की कमी नहीं खलती है ।
० आपके काम को सरकार कितना महत्व देती है ?
– महिला को ३३ प्रतिशत अधिकार दिया गया है किन्तु इसके बावजूद महिला हिंसा, बलात्कार, छाउपडि व्यवस्था, डायन के आरोप में पीडि़त करना ये सब आज भी समाज में व्याप्त है । आज भी हमारे देश में पुरुष तंत्र ही हावी है और सरकार इसके लिए कोई ठोस कदम भी नहीं उठा रही है ।
० आपके विचार से सरकार को महिला हक अधिकार के लिए क्या करना चाहिए ?
– समान व्यवहार, महिला पुरुष के लिए समान कानून और महिला हक हित के सन्दर्भ में ५० प्रतिशत हक महिला को देना आवश्यक है । साथ ही महिला खुद अपने कर्तव्य को समझती है और कानून के दायरे में रहकर अपने फर्ज का निर्वाह कर सकती है ।
० किस किस विषय में असमानता है अभी ?
– महिला हक के लिए हम लड़ते हैं और इसका श्रेय पुरुष को जाता है । हमारे यहाँ की व्यवस्था ऐसी है कि पुरुष बाहर काम करता है और घर में आराम । उसकी सारी जरूरतों को महिला पूरा करती है । घर की पूरी जिम्मेदारी महिला की होती है । अगर महिला बाहर काम करती है तो उस हाल में भी उसे पहले घर के सभी कामों को निबटाकर बाहर निकलना पड़ता है । पर दुखद ये है कि उसके इस श्रम का घर में ही महत्व नहीं होता । तो सबसे बड़ी असमानता तो घर में ही देखने को मिलता है बाहर की तो बात ही छोड़ दीजिए ।
० एक महिला रोल मा्रडल कैसे बन सकती है, उसके लिए क्या क्या आवश्यक होता है ?
– सभी तरह से महिला को व्यवस्थित होना चाहिए । आत्मविश्वास, काम के प्रति निरन्तरता, शिक्षा ये सारे तत्व मिलकर किसी भी महिला को रोल माडल बना सकते हैं ।
० महिला उद्यमी के लिए क्या आपने कोई योजना बनाई है ?
– महाविनाशकारी भूकम्प के बाद दो महीने से महिला उद्यमी काम नहीं कर पाई हैं । इसकी वजह से बैंक के तेज ब्याज के कारण वो समस्या में हैं । ऐसी महिलाओं के लिए कम से कम दो महीने के ब्याज को माफ करवाने की योजना है । वि.सं. २०७३ साल में राष्ट्रीय स्तर का महिला उद्यमी मेला आयोजन करना, भिन्न सेमिनार और गोष्ठियों करना, समय सापेक्ष तालीम की व्यवस्था करना और उसके बाद सामुहिक व्यवसाय के लिए प्रेरित करना, महिला उद्योगी तथा व्यवसायियों की समस्याओं को सम्बन्धित निकाय तक पहुँचाकर उसका समाधान खोजना आदि हमारी योजनाओं में शामिल है जिसे हमें आगामी दिनों में करना है ।
० आपका लक्ष्य क्या है ?
पहले अपने गाँव की सेवा करुँ, ग्रामीण महिलाओं में चेतना जगाऊँ और समय आने पर राष्ट्र के जिम्मेदार पद पर रहकर काम करुँ । वातावरण अगर सहज हो तो महिला सब कर सकती है ।
० संविधान के सम्बन्ध में आपके क्या विचार हैं ?
महाविनाश भूकम्प के पश्चा् हमारे नेताओं को होश आया है । लगता है कि जल्दी ही हमें संविधान मिल जाएगा ।
० समय देने के लिए आपका धन्यवाद !
आपने मेरी बात हिमालिनी के द्वारा लोगों तक पहुँचाने का प्रयास किया है इसके लिए हिमालिनी टिम को मैं धन्यवाद देना चाहूँगी ।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz