निर्वाचन आयोग द्वारा प्रतिनिधिसभा और प्रदेशसभा के लिए अलग-अलग मतपत्र छापने का निर्णय

काठमांडू, १२ कार्तिक । निर्वाचन आयोग ने प्रतिनिधिसभा और प्रदेशसभा निर्वाचन (प्रत्यक्ष तरफ) अलग–अलग मतपत्र छापने का निर्णय लिया है । एक ही मतपत्र छपने की तैयारी में रहे आयोग सर्वोच्च अदालत के आदेश के कारण नयां निर्णय में पहुँचा है । सर्वोच्च अदालत द्वारा जारी आदेश के बाद आयोग कुछ दिन से विभिन्न औपचारिक–अनौपचारिक विचार–विमर्श में सक्रिय हो रहा था ।
आइतबार महान्यायाधिवक्ता के साथ की गई विचार–विमर्श के बाद आयोग ने अलग–अलग मतपत्र छपने का निर्णय किया है । लेकिन अभी तक इसके बारे में आयोग ने औपचारिक रुप में कुछ बताया नहीं है । आयोग उच्च स्रोत अनुसार चुनावी तिथि को यथावत रखकर पतपत्र अलग–अलग छपने का निर्णय आयोग ने लिया है । स्मरणीय है, राजपा नेता शर्वेन्द्रनाथ शुक्ला ने अलग–अलग मतपमत्र माग करते हुए सर्वोच्च में मुद्दा दायर किया था ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: