नुसरा फ्रन्ट जिहादी ग्रुप का अल कायदा से अलग होकर एक नयी पहचान

नुसरा फ्रन्ट जिहादी ग्रुप का अल कायदा से अलग होकर एक नयी पहचान
 मालिनी मिश्र,काठमाण्डू, २९ जुलाई ।
nusra
आतंकवाद का कोई जात धर्म नहीं होता ,उसकी पहचान तो  सिर्फ आतंक के बल पर बनायी जा रही है । इसी क्रम में सीरिया के जिहादी ग्रुप जो कि नुसरा फ्रंट के नाम से जाना जाता है, अलकायदा से अलग होने का एलान कर रहा है । इस संगठन का  नया नाम फतहत फतेह अल शाम होगा , जिसका तात्पर्य है कि सीरिया फतह करने के लिए बना फ्रंट ।
यह एक रिकार्डेड संदेश के माध्यम से संगठन के नेता अबु मोहम्मद अल जुलानी ने बताया है । इस संगठन के अलग होने का समर्थन अलकायदा के दूसरे नेता अबु अल खैर भी कर रहे हैं  और कहा है कि यह संगठन सीरिया में मुसलमानों के हित के लिए व जिहाद को बचाए रखने के लिए आगे बढेगा  । साथ ही कहा कि इस संगठन का विदेशी संगठनों से कोई संबंध नही होगा । इस तरह के फैसले लेने का कारण, खासकर अमरीका व रुस की ओर से हो रहे बमबारी व इस संगठन पर बंबारी करके सीरिया के विस्थापित मुसल्मानों से छल को सामने लाने के लिए बताया जा रहा है । माना जा रहा है कि इस संगठन में ५ से १० हजार तक लडाके हैं ।
 विश्लेषक यह मान रहे हैं कि सैन्य कार्यवाही तेज होने के साथ ही यह संगठन अपनी नई पहचान बनाने में लगा है । अमरीका व रुस के विदेश मंत्रियों का कहना है कि वह इस संगठन के प्रति ठोस कदम उठाएंगे ।
Loading...