नेपालगंज में पत्रकार विशाल राना मगर द्वारा “टक विद माई फोटोस्” का आयोजन

नेपालगन्ज,बाके, पवन जायसवाल, श्रावण, २९ गते ।
बाके जिला के नेपालगन्ज के समावेशी स्कूल नें बिद्यार्थियों की क्षमता अभिबृद्धि करने के लियें बिभिन्न प्रकार के कार्यक्रम करते आ रही है ।
समावेशी स्कूल में अध्यनरत बाघसिंह सरदार ने गत वर्ष नेपालगन्ज रंगशाला में सम्पन्न हुये दौड प्रतियोगिता में भाग लिये थे ।

2
श्रावण २८ गते शुक्रवार को उस प्रतियोगिता में दौडते हुये अपनी फोटो देखने के बाद में बाघसिंह सरदार थिदी देर के लिए आश्चर्यही नही वल्कि प्रफुल्ल और हार्षित् हए |
पत्रकार बिशाल रानामगर ने समावेशी स्कूल से शुरु किया ‘टक विद माई फोटोस्’ अभियान की क्रम में बाघसिंह सरदार ने अपनी फोटो देखने के बाद खुशी व्यक्त किया । जो फोटो पत्रकार बिशालराना मगर ने ही खीचा था । फोटो देखने के बाद में उन के सभी साथियों ने भी खुशी होकर साथी बाघसिंह सरदार को बधाई दिये थे । ‘हम को ये नहीं मालूम था कि हमारी फोटो खीचीं गई है’ खुशी व्यक्त करते हुये बाघसिंह सरदार ने कहा, ‘मैं खुद हू“ जैसे लगी ।’ पत्रकारिता की साथ नेपालगन्ज में रहें फोटोग्राफी करते आ रहे विशाल राना मगर ने शुक्रवार से ‘टक विद माई फोटोस्’ अभियान शुरु किया है । करीब दो घण्टें तक चली फोटोग्राफी के बारे में छलफल के क्रम में सहभागी रहें ७२ विद्यार्थियों ने पत्रकार विशाल राना मगर से फोटोग्राफी के बारे में अन्तक्रिया कियें थे ।
‘टक विद माई फोटोस्‘ अभियान में विशाल रानामगर ने अपना विभिन्न जगह में खीचा हुआ २५ फोटो की प्रदर्शनी किया , फोटो खींचते समय का अनुभव, और कठिनाईया“ तथा फोटो से जुडी हुई रोचक जानकारिया कराये थे । ‘गरीबी तथा इन्सान की दैनिक जीवन से जुडी क्षणें को फोटो के माध्यम से दिखाना तथा फोटोग्राफी सम्बन्धी अपना सीखी बातों को आदानप्रदान करने के लिये यह अभियान की शुरुआत किया हू“’ विशाल रानामगर ने बताया ।
‘फोटो के माध्यमों से समाज में रही गरीबी तथा असमानताए को विद्यार्थियों के बीच में बातचीत करना और इस के विरुद्ध में साझा आवाज उठाने के लिये यह अभियान की शुरुआत किया हू“ ।’ कार्यक्रम में फोटोग्राफी सम्बन्धी आधारभूत ज्ञान के साथ साथ प्रदर्शन किया गया फोटो के बारे में बातचीत किया गया था । उसी क्रम में विद्यार्थियों ने फोटो एकबार देखने से मात्र सब चीज मालूम नही होती है और यह एक गहन कथा की जिम्मेवारी लियें है प्रतिक्रिया दिये थे । ‘छोटे से ही फोटोग्राफी में सौखिन हुये और बिशाल राना मगर के साथ अन्तक्र्रिया से फोटो खींचने में ध्यान देनेवाली बातें और फोटो से रखने वाली महत्व की बारे में जानकारिया“ मिली,’ सहभागी विद्यार्थी याम गिरि ने बताया ।

5
इसे पहले भी विभिन्न सिर्जनशील गतिविधिया“ को प्रोत्साहित करते आये समावेशी स्कूल के प्रधानाध्यापक हेमन्तराज काफले ने विद्यार्थियों के बीच में फोटोग्राफी सम्बन्धी पहला कार्यक्रम किया गया जानकारी दी । प्रधानाध्यापक हेमन्तराज काफ्ले ने पत्रकार बिशाल रानामगर ने शुरु किया ‘टक विद माई फोटोस्’ कार्यक्रम ने फोटोग्राफी के बारे में जानकारी मात्र नही फोटो के माध्यम से नेपाली समाज की अवस्था और विद्यार्थियों को सही रास्ते में रहने के लिये प्रेरित किया है । यह अभियान विशेष करके विद्यार्थियों को लक्षित किया है े अभियान समायानुूकूल अन्य विद्यालयओं में भी किया जाएगा पत्रकार विशाल राना मगर ने जानकारी दिया । कार्यक्रम में कृषि पत्रकार समुह बाके जिला के अध्यक्ष खगेन्द्र दाहाल, चियर्स क्रियटिभ नेपाल के अध्यक्ष सुरेन्द्र चलाउने, सदस्य निहाल तथा फोटोग्राफर प्रदीप राजवंशी लगायत की सहभागिता रही थी । पत्रकार विशाल रानामगर ने लम्बी समय से नेपालगन्ज के युवाओं के बीच फोटोग्राफी सम्बन्धी विभिन्न सिर्जनशील कार्यक्रम करते आयें है ।

loading...