नेपालगंज मे मोष्ट वारेन्टेड अभियुक्त को पकडा गया

नेपालगन्ज, पवन जायसवाल भाद्र ६ गते ।
विगत दिनों में भूमिगत सशस्त्र समुह “तराई जनतान्त्रिक पार्टी मधेश” में आवद्ध रहे जियाउल मनिहार ने बाँके जिला में हत्या, अपहरण, चन्दा असुली, फिरौती रकम माँगने के आरोप मे मोष्ट वारेन्टेड अभियुक्त को पकडा गया है ।
बाँके प्रहरी के मोष्ट वारेन्टेड सूची में रहे बाँके जिला के ईन्द्रपुर गा.वि.स.– ३ निवासी  जियाउल मनिहार मिति २०७० अषाढ महीने के १७ गते तत्काल अपना नाम वकील दर्जी ,वतन भारत रुपैडिया का नाम लिखाकर बाँके नेपालगन्ज–५ से दो ग्राम लागू औषध ब्राउन सुगर सहित गिरफ्तार हुआ है । जियाउल को लागू औषध सम्बन्धित मुद्दा का अनुसन्धान करते समय में अपना वास्तविक नाम  बताया जियाउल मनिहार बताया ।  वतन बाँके ईन्द्रपुर–३ के २२ वर्ष जियाउल मनिहार उर्फ वकील दर्जी ने  २०६६ साल कार्तिक २८ गते बाँके जिला के ईन्द्रपुर –७ मोतीपुर के देवी प्रसाद राँढ के अरहर के खेत में खजुराखुर्द– १ निवासी गंगाराम पासी और मुन्नु से जानेजाने वाले मुन्ना यादव को जियाउल मनिहार ने धार वाला हतियारों से गर्दन काटर कर हत्या कर दिया  था ।
इसी तरह २०६७ साल असोज महीने के १४ गते के दिन नेपालगन्ज– १५ निवासी कपिल द्धिवेदी और उन के दोस्त लीलाधर भट्टराइ को भी जियाउल मनिहार समेत लोगों ने नेपालगन्ज–१ से अपरहण करके बन्धक बनाया था । लीलाधर भट्ट को भी गर्दन काटकर हत्या किया था तथा कपिल द्धिवेदी के परिवारों से रु दश लाख फिरौती रकम भी लिया असोज.१८ गते ईन्द्रपुर– ७ में गर्दन काटकर हत्या किया ।
इसी तरह २०७०साल बैशाख ३० गते बाँके नेपालगन्ज–१ चन्दननाथ टोल के निवासी २८ वर्ष  के महेन्द्र शाही को भी जियाउल मनिहार समेत लोगों ने अपरहण करके भारत में लेजाकर  १० दिनों तक बन्धक बनाया था तथा उनके करिबि लोगों से रु ५० लाख फिरौती रकम माँग कर रहे अवस्था में अपहरित महेन्द्र शाही को भारतीय प्रहरी के समन्वय में २०७० साल जेष्ठ १० गते भारत कोतवाली नगर लगरघट्टा से अपरहण मुक्त किया गया था ।
इसी तरह २०७०साल बैशाख ३० गते बा“के नेपालगन्ज–१ चन्दननाथ टोल के निवासी २८ वर्ष  के महेन्द्र शाही को भी जियाउल मनिहार समेत लोगों ने अपरहण करके भारत में लेजाकर  १० दिनों तक बन्धक बनाया पिडीतों के आफन्त लोगों से रु ५० लाख फिरौती रकम मा“ग कर रहे अवस्था में अपहरित महेन्द्र शाही को भारतीय प्रहरी के समन्वय में मिति २०७० साल जेष्ठ १० गते भारत कोतवाली नगर लगरघट्टा से अपरहण मुक्त किया गया था ।
मिति २०७०साल अषाढ १७ गते बा“के नेपालगन्ज–५ वसपार्क स्थित तत्काल घर भारत रुपैडिहा अपना नाम वकील दर्जी बताने वाले जियाउल मनिहार को दो ग्राम ब्राउनसुगर सहित पक्राउ किया । मुलुकी ऐन ज्यान सम्बन्धी महल, अपरहण तथा शरीरबन्धक लाने जाले महल और लागू औषध तथा नियन्त्रण ऐन २०३३ के अनुसार कारबाही होने के लियें बा“के जिला प्रहरी कार्यालय ने यह जानकारी दी है

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz