Wed. Sep 26th, 2018

नेपालगन्ज में बहुुभाषिक कवि गोष्ठी सम्पन्न


नेपालगन्ज, (बाके) पवन जायसवाल, असोज १२ गते ।
यूएनडिपी की सहयोग में तथा सूचना और मानव अधिकार अनुुसन्धान केन्द्र नेपालगन्ज की आयोजना में असोज ७ गते शनिवार को विश्व शान्ति दिवस  के अवसर पर नेपालगन्ज में बहुुभाषिक कवि गोष्ठी सम्पन्न हुआ है ।
नेपालगन्ज पूर्वलाइन स्थित महेन्द्र पुस्तकालय में सामाजिक सद्भाव कायम करने के लिये साहित्य की अहम भुुमिका रहेगी नेपाल प्रज्ञा प्रतिष्ठान के पूर्व प्राज्ञ तथा सदस्य सचिव सनत रेग्मी ने बताया । इस की साथ साथ उन्हों ने नेपालगन्ज विविध भाषा भाषी की शहर होने की नाते बहुुभाषिक कवि गोष्ठी की महत्व रही है और इस ने एकआपस में भातृत्व बिकास, सामाजिक सद्भाव फैलाने की महत्वपुुर्ण भुुमिका निभाएगी बताया ।
इसी तरह जंगार साहित्यिक बखेरी के अध्यक्ष सोम डेमनडौरा ने थारु भाषा में अपनी कविता प्रस्तुत किकया था । जलवायुु संरक्षण अभियान नेपाल के अध्यक्ष तथा नेपालगन्ज–४ बसपार्क स्थित समासी इग्ंिलश स्कूल के प्रिन्सिपल हेमन्तराज काफले ने अंग्रेजी भाषा में अपनी रचना प्रस्तुुत किया था । साथ साथ उसी अवसर पर हेमन्तराज काफले ने जन्मदिन क िअवसर पर ओलम्पियन सुुरेन्द्र हमाल और जिला प्रहरी कार्यालय, बा“के के प्रहरी प्रमुुख प्रहरी उपरीक्षक टेक बहादुुर तामाङ्ग को सितलचिनी की उपहार दिया था ।
वह बहुुभाषिक कवि गोष्ठी सूचना और मानव अधिकार अनुुसन्धान केन्द्र नेपालगन्ज में अवधि सा“स्कृतिक प्रतिष्ठान के अध्यक्ष विष्णुुलाल कुमाल, अवधी सा“स्कृतिक विकास परिषद के अध्यक्ष सचिदानन्द चौबै, उर्द्ुु सायर तथा गुल्जारे अदब नेपालगन्ज के सचिव मोहम्मद मुुस्तफा अहसन कुुरैशी, मध्यपश्चिम गजल प्रतिष्ठान के अध्यक्ष अब्दुुल लतीफ शौक, जिला प्रहरी कार्यालय, बा“के के प्रहरी प्रमुुख प्रहरी उपरीक्षक टेक बहादुुर तामाङ्ग, भेरी साहित्य समाज नेपालगन्ज के कोषाध्यक्ष भरतरानाभाट, प्रगतिशिल लेखक संघ के अध्यक्ष मणि अर्याल, नेपालगन्ज उद्योग बाणिज्य संघ के अध्यक्ष नन्दलाल वैश्य, ईश्लाम धर्म गुरु तथा मौलाना जियाउल मुुस्तफा नूरानी, फतिमा फाउण्डेशन नेपाल की साहिदा बानौ शाह, सुुरेश कुमार श्रेष्ठ, करिश्मा योगी लगायत २ दर्जन साहित्यकारों ने सामाजिक सद्भाव सम्बन्धि कविता प्रस्तुुत किये थे । उसी कार्यक्रम में सूचना और मानव अधिकार अनुुसन्धान केन्द्र के अध्यक्ष विश्वजीत तिवारी ने नेपालगन्ज विविधता में एकता क िशहर हाोने की नाते भाषा और संस्कृति संरक्षण में जोड देने के लिये बताया । वह बहुुभाषिक कार्यक्रम की सञ्चालन साहिल अन्सारी और सूचना और मानव अधिकार अनुुसन्धान केन्द्र की कार्यक्रम संयोजक लक्ष्मी तिवारी ने कार्यक्रम में स्वागत मन्तब्य की थी और कार्यक्रम में यूएनडिपी के प्रतिनिधि सातिश पाण्डेय की उपस्थित ही थी सोम गुुरुङ्ग ने बताया ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of