नेपालगन्ज मे स्वतन्त्र नागरिक समाज का स्थापना दिवस सम्पन्न ।

प्रमुख अतिथि नेपाल पत्रकार महासंघ के केन्द्रीय पार्षद् एवम् वरिष्ठ पत्रकार पूर्णलाल चुके अपना विचार रखते हुये

पवन जायसवाल, (बाँके) नेपालगन्ज । स्वतन्त्र नागरिक समाज नेपाल का प्रथम स्थापना दिवस फाल्गुन ७ गते सोमबार के दिन सम्पन्न हुआ हैं । नेपालगन्ज नगरपालिका वडा नं.१६ बेलासपुर में रहा प्राचीन कालीथान मन्दिर के परिसर में सोमबार  को आयोजित एक कार्यक्रम के  वीच स्थापना दिवस मनाया गया ।
उसी अवसर में प्रमुख अतिथि नेपाल पत्रकार महासंघ के केन्द्रीय पार्षद् एवम् वरिष्ठ पत्रकार पूर्णलाल चुके ने शान्ति के प्रतीक कवुतर उडाया और उसके बाद संस्था का ब्यानर अनावरण करके प्रथम स्थापना दिवस को शुभारम्भ किया ।
फागुन ७ गते प्रजातन्त्र दिवस तथा स्थापना दिवस के शुभ अवसर पर प्रमुख अतिथि चुके ने स्वतन्त्र नागरिक समाज नेपाल के अगुवा लोगों ने राजनीतिक आस्था, व्यक्तिगत कोई भी स्वार्थ से उपर उठकर राष्ट्र में व्याप्त राजनीतिक अस्थिरता, सामाजिक विसंगतियों, अन्याय अत्याचार, भ्रष्टाचार, कुरीतियाँ, मानवअधिकार उलंघन लगायत के कुसंस्कृति और क¬संस्कारों के विरुद्ध खबरदारी करने में स्वतन्त्र नागरिक समाज को सचेत होने के लिये अपने विचारों में व्यक्त किया ।
उन्हो ने कहा जब जब देश में समस्या और संकट आती हैं तब तब स्वतन्त्र नागरिक समाज की आवश्यकता महशूस होती हैं और वहाँ महत्वपूर्ण भूमिका भी निर्वाह करना पडता हैं ।
संस्था के संस्थापक अध्यक्ष एवं वरिष्ठ लेखक भूपेन्द्र प्रकाश शर्मा ने संस्था को स्थापना करने का आवश्यकता और औचित्य के उपर प्रकाश डाला था ।
उसी अवसर पर संस्था के सल्लाहकार नागरिक के अगुवा कृष्ण राज पन्त ने भी अपने बिचारों में कहा राजनीतिक दल के नेताओं के असक्षमता और नालायकीपना के कारणों से देश में शान्ति नही हो रहा हैं और जनताओं को दुःख सहना पडता हैं विचार व्यक्त किया ।
स्वतन्त्र नागरिक समाज नेपाल के सचिव गीता थापा भण्डारी ने कार्यक्रम को सञ्चालन किया था ।  इसी तरह कार्यक्रम में सल्लाहकार लाल बहादुर शाही, अधिवक्ता सुनील कुमार श्रेष्ठ, स्वतन्त्र नागरिक समाज नेपाल के उपाध्यक्ष मदन बहादुर बि.सी., कोषाध्यक्ष नारायण उप्रेती, सदस्य भरत राना भाट लगायत लोगों ने  अपना अपना विचार ब्यक्त किया । इसी तरह स्वतन्त्र नागरिक समाज नेपाल तदर्थ समिति के सदस्य देउमल सुनार ने बाँके जिला प्रशासन कार्यालय में दर्ता हुआ प्रमाण पत्र को पढकर सुनाया था ।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz