नेपाल को मिलता रहेगा सहयोग

नेपाल भ्रमण कर रहे विभिन्न दल के भारतीय नेताओं ने २७ मई के अंदर ही नेपाल में संविधान लागू होने की उम्मीद जताई है। रिपोर्टस क्लब द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने आए भारतीय जनता पार्टर्ीीे विदेश विभाग के प्रमुख विजय जोली ने कहा कि भारत में शांति प्रक्रिया के तहत १२ बिंदुओं पर हर्ुइ वार्ता के कारण ही अपने निष्कर्षपर पहुंच पाया है। उन्होंने कहा कि पर्ूव प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल में दिल्ली में सात प्रमुख दल और माओवादियों के बीच १२ सूत्री मुद्दोें पर ऐतिहासिक समझदारी तय हर्ुइ थी। जिसके तहत सभी पार्टियां ये चाहती हैं कि नेपाल में समय पर ही संविधान जारी हो और नेपाल का आर्थिक विकास हो सके। दोनों देशों के बीच मधुर संबंध होने की वजह से ५५ लाख से अधिक नेपालियों को भारत में रोजगार की मौका मिलने की बात कही। उन्होंने कहा कि हमें हमेशा यह भय रहता है कि कहीं नेपाल अंतर्रर्ाा्रीय आतंकवाद का अखाडÞा न बन जाए। कार्यक्रम में भारतीय राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टर्ीीे महासचिव तारिक अनवर ने कहा कि नेपाल में लोकतांत्रिक शासन संघ का निर्माण हो सके। समय पर संविधान जारी होने के बाद भारत के सहयोग में भारी वृद्धि की जा सकती है। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्ता और सांसद राशिद अल्वी ने कहा कि भारत हमेशा नेपाल और नेपाल की जनता के साथ हैै। भारत सरकार से दिया गया दो हजार करोडÞ रुपये का सहयोग इस बात का उदाहरण है। इसी तरह भारतीय तृण मूल की सांसद और बंगाल की प्रसिद्ध अभिनेत्री शताब्दी राय ने कहा कि नेपाल के विकास में भारत का योगदान जारी रहेगा। नेपाल भ्रमण पर आए इन भारतीय नेताओं ने राष्ट्रपति डा. राम बरन यादव उपराष्ट्रपति परमानंद झा और प्रधानमंत्री डा. बाबू राम भट्टर्राई से मुलाकात भी की।
भारतीय सांसद और
विधायक नेपाल में सम्मानित
भारतीय सांसद प्रदीप टम्टा एवं विधायक हेमेश खर्कवाल का नेपाल चैंबर आँफ कामर्स ने जोरदार स्वागत कर सीमा पर स्थित समस्याओं के निदान की मांग की। मुख्य अतिथि सांसद श्री टम्टा ने कहा कि भारत-नेपाल के बीच आदिकाल से रोटी-बेटी के संबंध हैं। उहोंने दोनों देशों की सांस्कृतिक विरासत को महानतम बताते हुए मैत्री प्रगाढÞ करने की प्रेरणा दी।
महेंद्रनगर -नेपाल) स्थित वाणिज्य संघ सभागार में नेपाल चैंबर आफ कामर्स के अध्यक्ष हेम विक्रम थापा की अध्यक्षता एवं वरिष्ठ पत्रकार चित्रांग थापा के संचालन में हुए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि भारतीय सांसद प्रदीप टम्टा एवं विशिष्ठ अतिथि चंपावत के विधायक हेमेश खर्कवाल को शाल ओढÞा एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। नेपाल वाणिज्य संघ ने भारतीय सांसद से सीमा स्थित समस्याओं के निवारण की मांग की। उन्होंने भारतीय कस्टम द्वारा नेपाली नागरिकों के उत्पीडÞन पर रोक लगाने, भारतीय कस्टम में लेडी र्सचर की नियुक्ति करने, शारदा बैराज पर गेट खुलने की समय सीमा बढÞाने, नया पुल बनानेआदि की मांग रखी। सांसद श्री टम्टा ने सीमा की समस्याओं बाबत भारत सरकार से वार्ता का भरोसा दिया। विधायक हेमेश खर्कवाल ने सीमा पर दोनों देशों के नागरिकों को जागरूक एवं र्सतर्क रहने तथा मैत्री संबंध बढÞाने की अपील की। इस मौके पर हेमराज पांडे, माधव प्रसाद भटृ, ऋषिराज खरैल, यज्ञराज भटृ, स्थानीय विकास अधिकारी श्यामराज अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी केशव राज जोशी, फिरोज खान, कुंदन सिंह बिष्ट आदि मौजूद थे। इससे पर्ूव बनबसा आगमन पर सांसद श्री टम्टा को व्यापार मंडल महामंत्री संजय अग्रवल ने धर्मशाला सर्ंपर्क मार्ग निर्माण को लेकर ज्ञापन सौंपा। ग्रामप्रधान निर्मला मौनी, चंद्रप्रकाश, बीडीसी सदस्य जसवंत सिंह बसेडÞा, रमेश चंद आदि ने उनका स्वागत किया।
नेपाल सीमा पर सुरक्षा बढÞेगी
नेपाल की सीमा से सटे इलाकों में सुरक्षा और चाक-चौबंद की जाएगी। इस सिलसिले में जल्द ही पुलिस के अफसर सशस्त्र सीमा बल -एसएसबी) के साथ मिलकर रणनीति तय करेंगे। यह फैसला पडÞोसी देशों में बढÞती आतंकवादी गतिविधियों के मद्देनजर लिया गया है। खुफिया सूत्रों के मुताबिक पडÞोसी देश नेपाल में आतंकवादी गतिविधियां बढÞ रही हैं। बरेली जोन में पीलीभीत जिले के थाना हजारा, माधोटांडा और न्यूरिया की सीमा नेपाल से सटी हर्ुइ है। जहां बार्डर की सुरक्षा का जिम्मा एसएसबी पर है। मगर सीमा से सटे इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था सिविल पुलिस की रहती है। रविवार को अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हुए धमाकों के बाद नेपाल बार्डर पर एसएसबी को और ज्यादा अलर्ट कर दिया गया है। चारों चौकी क्षेत्रों में गश्त भी बढÞा दी गई है। सिविल पुलिस के अफसर भी चौकन्ने हो गए। नेपाल को जाने वाले सभी रास्तों पर चेकिंग कडÞी कर दी गई है। नेपाल सीमा से लगे क्षेत्र में पुलिस की गश्त भी बढÞा दी गई है। इंटेलीजेंस ब्यूरो समेत सभी खुफिया एजेंसियां सूचनाएं जुटाने में लग गई हैं। बार्डर पर खुफिया कैमरे लगाने की भी योजना है। आईजी देवेंद्र सिंह चौहान के मुताबिक पीलीभीत के अफसरों और संबंधित थानेदारों को अलर्ट रहने को कहा गया है। आपस में समन्वय बैठाने के लिए जल्द ही एसएसबी के अफसरों की सिविल पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक होगी।
नेपाली नोट पर लुंबिनी
और अशोक स्तंभ
अब नेपाली नोट के जरिए भी भगवान बुद्ध याद किए जाएंगे। भगवान बुद्ध के बहाने बौद्ध धर्म के प्रचारक अशोक को भी याद रखा जाएगा। नेपाल में पहली बार २०० रुपये के नेपाली नोट पर भगवान बुद्ध की जन्म स्थली लुंबिनी और अशोक स्तंभ अंकित किया जाएगा। इतना ही नहीं नोट पर लुंबिनी बर्थ प्लेस आफ बुद्ध भी लिखा होगा। यह घोषणा महिला बाल बालिका तथा समाज कल्याण मंत्री दान बहादुर चौधरी ने की। उन्होंने बताया कि काठमांडू में मंत्री परिषद् की बैठक में तय किया गया कि सौ रुपये नेपाली नोट पर गौतम बुद्ध के जन्म स्थली लुंबिनी तथा अशोक स्तंभ का चिन्ह अंकित किया जाए।
वहीं इस नोट पर लिखा होगा लुंबिनी बर्थ प्लेस आफ बुद्ध। वहीं नेपाली नोट पर तारा देवी की मर्ूर्ति के स्थान पर माया देवी की मर्ूर्ति होगी। इस तरह के नोट के छह महीने बाद बाजार में आने की उम्मीद है। भगवान बुद्ध के जन्म स्थान लुंबिनी को नेपाली सरकार द्वारा तरजीह देने और अशोक स्तंभ को भी ऐतिहासिक महत्व देने पर बौद्ध धर्म के अनुयायियों ने सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है। वहीं समाज कल्याण मंत्री दान बहादुर चौधरी ने कहा कि नेपाल सरकार ने इस निर्ण्र्ाापर काम करना शुरू कर दिया है।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz