नेपाल-भारत सम्बंध :
वरुणमाला मिश्रा

विराटनगर । नेपाल के विकास के लिए भारत हर संभव मदद देता रहेगा । नेपाल से हमारा सम्बंध केवल भौगोलिक ही नहीं बल्कि आर्थिक व सांस्कृतिक भी है । आपको ऐसा मित्रवत सम्बंध विश्व के अन्य देशों में देखने को नहीं मिलेगा । उपरोक्त बातें पिछले दिनों विराटनगर के होटल जेनियल में नेपाल-भारत उद्योग वाणिज्य संघ -च्याप्टर) का उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि भारतीय राजदूत राकेश सूद ने कहा । उद्घाटन समारोह में बोलते हुए सूद ने कहा कि नेपाल के विकास के लिए भारतीय सीमा से सटे तर्राई इलाको में ५ हजार ८ सौ करोडÞ की लागत से सडÞक बनेगी, जो रिश्ते को और भी मजबूती प्रदान करेगा । उन्होंने स्पष्ट किया कि नेपाल में छोटे-बडेÞ ४०० योजनाएँ संचालित है । जिसमें कई योजनाओं का काम प्रगति पर है । कार्यक्रम में मौजूद उद्योगपति सभासद मोती दुगडÞ ने कहा कि दोनों देशों के बीच मित्रवत सम्बंधों को बिगारने का नापाक साजिश को सीमा पर बसी जनता मूँहतोडÞ जवाब देती रही है । उन्होंने गत वर्षसीमा पर फूल आदान-प्रदान कार्यक्रम के याद दिलाते हुए कहा कि सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों के बीच बेटी-रोटी के सम्बंध के कारण यह रिश्ता और भी अटल है जो छोटी-मोटी कारणों की वजह से मतभेद नहीं पैदा कर सकता ।
वाणिज्य विभाग के निवर्तमान अध्यक्ष अरुण चौधरी ने कहा कि भारत के खिलाफ अनाप सनाप बयानबाजी मात्र दिखावा है । उन्होंने भारत से मिल रहे विभिन्न सहयोग की प्रशांसा की । कार्यक्रम नेपाल-भारत उद्योग वाणिज्य संघ के अध्यक्ष संजीव केशवा की अध्यक्षता में आयोजित की गयी जिसमें नेपाल-भारत उद्योग वाणिज्य संघ -च्याप्टर) के विराटनगर अध्यक्ष ललित लोहिया ने दोनों देशों के व्यापार नीति परु प्रकाश डाला । कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन मुकेश उपाध्याक्ष ने दिया । इस मौके पर लोहिया की अध्यक्षता वाली टीम में प्रथम उपाध्यक्ष मुकेश उपाध्याक्ष, द्वितीय उपाध्यक्ष अविनाश बोहरा, महासचिव शयाम पौडेल, कोषाध्यक्ष सुरेन्द्र गोल्छा के अलावा कार्यकारी सदस्य बेनी गोपाल मुन्दडा, यादव पोखरेल, राजीव जासजा, अनील साह, चण्डी पराजुली, विजय डालमिया, श्रीराम काबरा के नाम की घोषणा की गयी । कार्यक्रम में पटना से पहुँचे कस्टम के एडीस्नल कमीश्नर एन के सोरेन, दूतावास सचिव आर.के. मिश्रा, जिला अधिकारी सुरेश अधिरकारी, डीआईजी बिनोद सिंह, निरज तिवारी, सुरेश ठाकुर व्रि्रोही, राज्यलक्ष्मी गोल्छा के अलावा भारी संख्या में उद्योगी-व्यापारी मौजूद थे ।
इसी तरह नेपाल-भारत के बीच व्यापार में समस्याओं की ओर विराटनगर के उद्योगी व्यापारियों ने राजदूत राकेश सूद को ज्ञापनपत्र सौंप कर ध्यान आकृष्ट कराया । सूद को सौंपे गए ज्ञापनपत्र में विराटनगर के उद्योगी-व्यवसायियों ने जोगबनी रलवे स्टेशन का रेलवे यार्ड, जोगबनी कस्टम तथा पर्ूवाेत्तर सीमान्त रेलखण्ड के गुहाटी स्थित मालीगांव तक की समस्याओं को रखा । व्यवसायियों ने जोगबनी में क्वारेंटाइन प्रयोगशला निर्माण की माँग की ताकि यहाँ के व्यवसायियों को पटना, कलकता जाना न पडेÞ । इस दौरान व्यवसायियों ने बैंकिंग कारेबार सहित अन्य समस्याओं की ओर सूद का ध्यान आकृष्ट कराया । जिस कारण से व्यापारियों को व्यापार करने में कई कठिनाइयों का सामना करना पडÞ रहा है । उद्योगी व्यवसायियों की माँग को सकारात्मक रुप में लेते हुए सूद ने समस्याओं का समाधान का आश्वासन दिया ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz