नेपाल में काम करना चुनौतीपूर्ण : राजदूत रंजित रे, अंजू रंजन की भाव-भीनी विदाई

anjuranjan vidaai

बीरगंज, २८, कार्तिक | भारत का महावाणिज्य दूतावास, वीरगंज की महावाणिज्य दूत श्रीमती अंजू रंजन को सफल कार्यकाल के लिए महावाणिज्य दूतावास द्वारा स्थानीय भिस्वा होटल में कल्ह आयोजित एक भव्य समारोह में भाव-भीनी विदाई दी गई ।

इस कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि के रूप में नेपाल में भारत के राजदूत महामहिम रंजित रे पधारे थे । इस अवसर पर पर्सा जिला के प्रमुख जिलाअधिकारी, प्रहरी ऊपरीक्षक के साथ- साथ नगर के बुद्धिजीवी, व्यवसायी, पत्रकार एवं राजनीति कर्मियों की अच्छी सहभागिता थी । इसके साथ ही महावाणिज्य दूतावास के कार्य क्षेत्र के आठ जिलों के विभिन्न क्षेत्रों से आमंत्रित विशिष्ट जनों की भी इसमें सहभागिता थी । कार्यक्रम का समुद्घाटन राजदूत महामहिम रे तथा महावाणिज्यदूत श्रीमती अंजू रंजन ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया ।

कार्यक्रम में सर्वप्रथम उपमहावाणिज्यदूत श्री नीरज जायसवाल ने अभिनन्दन-पत्र का वाचन किया तथा इसे माननीय राजदूत ने श्रीमती रंजन को प्रदान किया । इस विदाई समारोह में बोलते हुए श्री रे ने कहा कि विदेश सेवा में काम करते हुए नेपाल में काम करना सर्वाधिक चुनौतीपूर्ण है क्योंकि नेपाल के साथ भारत का सम्बन्ध बहुआयामी है और विभिन्न तरह की चुनौतियों का सामना एक राजनयिक को करना पड़ता है । उन्होंने यह भी कहा कि कठिन परिस्थितियों में ही व्यक्ति की कार्य क्षमता की परीक्षा होती है । महाभूकम्प के साथ-साथ मधेश आन्दोलन और लंबी नाकाबन्दी- दोनों ही कठिन चुनौतियों के रूप में हमारे सामने आयी और दोनों में वीरगंज महत्वपूर्ण था क्योंकि राहत और बचाव के अभियान का प्रमुख मार्ग यही था और नाकाबंदी वीरगंज केन्द्रित थी । इन कठिन परिस्थितियों में श्रीमती रंजन ने कुशलता पूर्वक अपनी भूमिका का निर्वहन किया । उन्होंने महावाणिज्य दूत श्रीमती रंजन द्वारा शुरू किया गया ‘बोर्डर-समिट’ जैसे कार्यक्रमों की महत्ता चिह्नित करते हुए इसकी निरन्तरता की आवश्यकता जतलायी ।

इस अवसर पर बोलते हुए श्रीमती रंजन ने अपनी कार्यावधि में हुए कार्यों का संक्षिप्त लेखा-जोखा प्रस्तुत करते हुए भावुक अंदाज़ में यहाँ की धरती और यहाँ के लोगों के प्रति अपना स्नेह जतलाया तथा कहा कि यहाँ काम करते हुए लगा नहीं कि विदेश में काम कर रही हूँ लेकिन अब यूरोप जाने मात्र की कल्पना से मैं तनाव मर रही हूँ । हसूस क ज्ञातव्य है कि वे यहाँ से स्काटलैंड जा रही हैं । उन्होंने अभिभावकीय छाया देने के लिए महामहिम राजदूत के प्रति अपना आभार प्रकट किया तथा हमेशा सहयोग के लिए दूतावास के पदाधिकारियों और कर्मचारियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया । इस अवसर पर राजीव रंजन और उनके समूह द्वारा कत्थक नृत्य की मनोहारी प्रस्तुति दी । इस कार्यक्रम का संचालन महावाणिज्य दूतावास के कान्सुल श्री राजेश कुमार ने किया ।

img-20161113-wa0003


Loading...