नेपाल राज्य ५ कारण बतादें कि मधेस नेपाल में क्यों रहे ? मुकेश झा

madesh-issue--

अब मधेसी जनता यह सोच रही है की जब खून बहाना ही है तो अलग प्रदेशके लिए क्यों, अलग देश के लिए क्यों नहीं बहाएं ? इस अलग देश बनाने के अभियान का सूत्रधार अभी एक ही संगठन सशक्त रूप से आगे है ALLIANCE FOR INDEPENDENT MADHESH (AIM) ।

मुकेश झा , जनकपुर , १२ फरवरी | जब भी अधिकार की बात आती है तो मधेसी अब सीधा यही सोचने लगते हैं की अब हम अधिकार ले ही नहीं सकते, अब हम हार गए, अब कोई रास्ता नहीं बचा, देशका नेता तो मधेस के लिए कुछ करता ही नहीं था अब मधेस के नेताओं ने भी हमे धोखा दिया अब क्या करें, तो चलो अलग देश बनाएं, इस से अलग हो जाएं और अपना अलग सारा व्यवस्था तंत्र बनाएं। यह अब मधेश मे आम भावना बनने लगी है। पहले भी इस तरह अभियान थोडा बहुत चला, कुछ समूह सङ्गठन भी बने, कुछ प्रचार प्रसार भी हुवा लेकिन गणतंत्र के बाद संबिधान सभा चुनाव पर सब की नजर थी की शायद इस से कोई हल निकले। लेकिन दुर्भाग्य, नेपाल सरकार द्वारा जारी इस बिभेदपूर्ण संविधान ने देश और मधेस को दोराहे पर ला कर खड़ा कर दिया। जनता ने चाहा की राज्य को दवाब दें , असहयोग करें तो शायद यह समस्या हल हो जाये लेकिन समस्या हल होने के बजाय उलझती चली गई। एक के बाद एक कर के हर शहर हर गाओं हर जिले में नेपाल पुलिस ने कत्लेआम किया। जनता ने सरकार पर दवाब डालने के लिए जितने भी हथकण्डे अपनाये बिभिन्न कारणों से वह सब निष्फल हो चूका। मधेसी मोर्चा जिसने इस आन्दोलन मे सब से ज्यादा योगदान दिया था, आपसी कलह का शिकार हो गया और सरकार को दबाव के लिए दिया गया सारा असहयोग का दवाब फिर्ता ले लिया गया।

अब मधेसी जनता यह सोच रही है की जब खून बहाना ही है तो अलग प्रदेशके लिए क्यों, अलग देश के लिए क्यों नहीं बहाएं ? इस अलग देश बनाने के अभियान का सूत्रधार अभी एक ही संगठन सशक्त रूप से आगे है ALLIANCE FOR INDEPENDENT MADHESH (AIM) । उस संगठन ने बहुत तरह से यह प्रमाणित करने की कोशिस किया है और बिल्कुल तथ्य और तर्क के साथ किया है की मधेस अलग देश क्यों बने। अब 21वीं सदी मे, “राज्य बन्दुक के भर पर चलता है ” यह बात उतनी मान्य नहीं रह गई। अब तर्क और तथ्य से हर बात को गलत या सही साबित करना होगा। इस आधार पर अब राज्य का यह दाइत्व बनता है की मधेसी जनता को तथ्य और कारणों सहित समझाए की मधेस आखिर अलग देश क्यों नहीं बने ? इतिहास यही बताती है कि कभी किसी राजा ने मधेस को जीता था तब से मधेस इसके अंदर है, लेकिन अब उस जिता हुवा राज्य से जनता खुश नहीं है तो या तो जिस राज्य ने मधेस को जिता है उसे मधेसियों को संतुष्ट रखना चाहिए या उसे स्पष्ट कारण बताना चाहिए की आखिर मधेस नेपाल में क्यों रहे ? सिर्फ इसीलिए की किसी “शाह बंश” ने कल बल या छल की युद्ध निति से इसे अपना बना लिया या और भी कोई कारण है ? या तो नेपाल सरकार मधेसियों की सारी मांगे पूरी करें नहीं तो राज्य ५ कारण दे दे की क्यों मधेस को नेपाल में रहना ही चाहिए तो मधेस नेपाल में ही रहेगा।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz