नेविसंघ में जितने नेता उतने गुट, नेपाली कांग्रेस अपने भातृ संस्था का विवाद मिलाने में ही असफल हैं

विजेता चौधरी, काठमाण्डू, अगस्त १३ |  बन्द सत्र अनिश्चितता के कारण जिलों के कार्यकर्ता वापस जाने लगें हैं

नेपाली कांग्रेस के भातृ संस्था नेपाल विद्यार्थी संघ में २४ गते से अब तक नहीं हो पाए बन्द सत्र तथा निर्वाचन के अनिश्चितता के कारण जिला से आये कार्यकर्ता वापस जाने लगे हैं ।

नेविसंघ का ११ वां महाधिवेशन का उदघाटन साउन के २३ गते ही हो गया था । संघ में प्रतिनिधी विवाद के कारण बन्द सत्र अब तक शुरु ही नहीं हो पाया है । नेविसंघ में पार्टी के जितने नेता उतने गुट होने के कारण विवाद की स्थिति चूनौतिपूर्ण बनी हुई है ।

विडम्बना ही कही जा सकती है, नेपाल के सब से बडी पार्टी नेपाली कांग्रेस अपने भातृ संस्था का विवाद मिलाने में ही असफल रही है । यद्यपि विवाद मिलाने के लिए केन्द्रीय सदस्य प्रकाश शरण महत के संयोजकत्व में निर्देशक समीति का भी गठन किया जा चूका है फिर भी विवाद मिलाना लोहे के चने चबाना के समान सावित हो रहा है । इस के साथ उक्त समीति बैठक तक ही सीमित है ।

निर्वाचन समीति ने अन्य सभी तैयारियां पूर्ण कर लेने के बावजूद भी मतदाता नामावली का अभी तक कोई ठिकाना नही है । आज शाम को ही नामाबली चिपकाने की बात थी जो अब तक नही हो पाया है ।

समीति ने शुक्रबार देर तक नामाबली नहीं मिलने पर अगर विवाद मिल भी जाता है तो शनिबार निर्वाचन करबाना नामुमकिन होने की बताई ।

पार्टी मुख्यालय में सीसीटीभी लगाया गया

निर्वाचन समीति ने पार्टी मुख्यालय में सीसीटीभी क्यामरा लगबाया है । समीति ने नेविसंघ के बन्द सत्र तथा मतदान पार्टी मुख्यालय में कराने की बात बताते हुए उक्त क्यामरा लगबाया है । बहरहाल अब तक राष्ट्रीय सभा गृह में निर्वाचन करबाने की ही तैयारियां चल रही थी ।

कार्यालय में चार सीसीटीभी लगाये गये हंै ।

loading...