पन्द्रह वर्षों बाद दरबार हत्याकांड एक बार फिर चर्चा में

७ पुस, काठमाडौं ।

maxresdefault

मन्त्रिपरिषद बैठक में दरबार हत्याकाण्ड जाँच करने के लिए विचार विमर्श हुआ है । पूर्वराजा ज्ञानेन्द्र की प्रेसविज्ञप्ति के साथ ही मंत्री परिषद दरबार हत्याकांड को लेकर सजग हुआ है । परिणामस्वरुप छानबीन प्रस्ताव आया है ।
गुरुवार हुए मन्त्रिपरिषद बैठक में उपप्रधान तथा गृहमन्त्री विमलेन्द्र निधि ने दरबार हत्याकाण्ड का मसला उठाया है ।
नारायणहिटी दरबार के अन्दर ०५८ जेठ १९ गते रात में हुए गोलीकाण्ड में तत्कालीन राजा वीरेन्द्र का समूल वंश ही समाप्त हो गया था । इस घटना की जाँच के लिए तत्कालीन सरकार पूर्वसभामुख तारानाथ रानाभाट के संयोजकत्व में छानबिन समिति गठन किया गया था । समिति ने दरबार हत्याकाण्ड में पूर्वयुवराज दीपेन्द्र का हाथ होने का निष्कर्ष निकाल कर अपनी जाँच खतम कर दी थी । इस जाँच पर जनता आज तक यकीन नहीं कर पाई है । १५वर्ष बाद एक बार फिर इसकी जाँच की चर्चा हो रही है ।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz