पार्टी का नाम ही पत्ता नहीं, लेकिन उम्मीदवार हैं सुनीता, जिवछी और कौशिला

महोत्तरी, २५ भाद्र । जलेश्वर नगरपालिका– ७ निवासी सुनीता राम ने स्थानीय निर्वाचन में उम्मीदवारी दी है । लेकिन उन्होंने किस पार्टी से उम्मीदवारी दिया है, यह स्वयम् सुनीता को भी पता नहीं है । ऐसी ही हालात जलेश्वर– ५ की जिवछी देवी का भी है । सुनीता और जीवछी ने दलित महिला कोटा से उम्मीदवारी दिया है । यह समाचार आज प्रकाशित गोरखापत्र दैनिक में है ।


सिर्फ सुनीता और छिवछी ही नहीं, स्थानीय निर्वाचन में उम्मीदवारी देनेवाले अधिकांश दलित महिला को पता भी नहीं है कि उन्होंने किस पार्टी से उम्मीदवारी दिया है । उन लोगों को अपनी पार्टी के चुनाव चिन्ह के बारे में भी कुछ भी पता नहीं है । उम्मीदवारी मनोनयन के बाद जिवछी को पूछा गया– ‘आपने किस पार्टी से उम्मीदवारी दिया है ?’ उन्होंने कहा– ‘नमस्ते पार्टी से ।’ जिवछी को पता भी नहीं था कि उन्होंने नेपाल लोकतान्त्रिक फोरम से उम्मीदवारी दिया है ।
इसीतरह जलेश्वर, खैरा निवासी माओवादी केन्द्र के दलित महिला उम्मीदवार को अपनी पार्टी का नाम पता नहीं । जब दलित महिला उम्मीदवारों के पीछे पत्रकार लगने लगा, तो राजनीतिक दलों के नेताओं ने उन लोगों को कहा– ‘आप लोग पत्रकारों से बात मत कीजिए ।’ जनकपुर उप–महानगरपालिका–२२ की कौशीला दास को भी पार्टी को नाम पूछा गया । उन्होंने कहा– ‘थोड़ा देर रुकिए, अगर आप को आवश्यक है तो मैं पार्टी के नेताओं से पूछ कर बताती हूं ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz